Chhattisgarh Jagdalpur

बस्तर की हिंसक वारदात के पीछे एक थानेदार की साजिश!

– मंत्री-विधायक के इशारे पर बनाई गई कांग्रेस नेताओं को फंसाने की रणनीति
– गोलीबारी से पहले थानेदार ने फोन करके कांग्रेसियों को बुलाया
– नकल काण्ड में मंत्री पत्नी को भी बचा चुका है थानेदार

रायपुर। नगरनार जगदलपुर के खुटपदर में 11 मई को हुई हिंसक वारदात में कांग्रेस के प्रदेश महासचिव मलकीत सिंह गेंदू और जगदलपुर शहर कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राजीव शर्मा को एक रणनीति के तहत फंसाया गया है। इस काम को नगरनार थाने में पदस्थ इंस्पेक्टर उत्तम वर्मा ने अंजाम तक पहुंचाया। स्कूल शिक्षामंत्री केदार कश्यप के करीबी पुलिस अधिकारियों में शुमार उत्तम वर्मा ने डेढ़ साल पहले भी मंत्री कश्यप की मदद की थी, जब वे लोहण्डीगुड़ा थाने में पदस्थ थे और वहां के गवर्नमेंट स्कूल में मंत्री पत्नी शांति कश्यप के स्थान पर उनकी साली किरण मौर्या को परीक्षा देते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया था। उत्तम वर्मा की मदद से ही उस मामले में पुलिस ने अज्ञात महिला के खिलाफ प्रकरण पंजीबध्द किया है।
पहले शांति कश्यप प्रकरण और फिर भाजपा मंत्री-नेताओं के कमीशनखोरी के मुद्दे को लेकर बस्तर में इन्हीं दो नेताओं के नेतृत्व में कांग्रेस उग्र प्रदर्शन कर रही थी। नुक्कड़ सभाओं के माध्यम से भाजपा नेताओं को बेनकाब किया जा रहा था। धरना-प्रदर्शन व रास्ता रोकने के कई मामले पुलिस ने इन दोनों समेत कांग्रेस के स्थानीय नेताओं के खिलाफ पंजीबध्द किए हैं फिर भी आंदोलनों का क्रम खत्म नहीं हो रहा था।


बड़े मामले में फंसाने की तैयारी
विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस कांग्रेस के इन दोनों नेताओं को किसी बड़े मामले में फंसाने की कोशिश में लगी थी तभी 11 मई को भाजपा के दो गुट आमने-सामने हो गया। खुटपदर में 11 मई को दोपहर बस्तर परिवहन संघ के सदस्य हरपिंदर सिंह को सिर पर तलवार मारकर घायल कर दिया गया। प्रारंभिक जानकारियों के मुताबिक यह हमला भाजपा के स्थानीय विधायक संतोष बाफना के समर्थकों ने किया। नगरनार जैसे औद्योगिक क्षेत्र का माहौल खराब होने के बचाने के लिए पुलिस सामने आई और उसने दोनों पक्षों के बीच समझौता कराने की कोशिश की।
इंस्पेक्टर ने फोन करके बुलाया
इस दौरान नगरनार थाने के इंस्पेक्टर उत्तम वर्मा ने एक नियोजित रणनीति के तहत पहले हरपिंदर सिंह और बाद में कांग्रेस नेताओं को फोन करके थाना बुलाया। उन्होंने तलवारबाजी की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस के बड़े नेता अगर इस सुलह वार्ता में शामिल हो जाएं तो स्थिति नियंत्रित हो जाएगी। इसके बाद हरपिंदर सिंह को लेकर मलकीत सिंह गेंदू व राजीव शर्मा नगरनार थाने पहुंचे और दोनों पक्षों में विस्तार से सुलह वार्ता की गई। इसके बाद मलकीत सिंह व राजीव शर्मा वहां से चले गए।
थाने से निकलते ही गोलीबारी
सुलह वार्ता के बाद दोनों पक्ष थाने से निकले और थाने से कुछ ही दूर जाकर एक पक्ष ने दूसरे पक्ष पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं। जवाब में दूसरे पक्ष ने भी गोलियां चलाईं। इस गोलीबारी में विधायक बाफना के गॉर्ड के भाई बसंत सिंह को पेट पर एक गोली लगी। उसे रातों-रात हेलिकॉप्टर से रायपुर लाकर एक निजी अस्पताल में भरती कराया गया। वैसे अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि बसंत सिंह की स्थिति इतनी खराब नहीं थी कि उसे हेलिकॉप्टर से लाना पड़ा क्योंकि गोली भी ऐसी जगह लगी है जहां उसकी जान को कोई खतरा नहीं है।
इंस्पेक्टर ने बताया कांग्रेसियों के बारे में
गोली चलने की खबर जंगल में आग की तरह जगदलपुर से रायपुर तक पहुंच गई। चूंकि दोनों की पक्ष भाजपा से जुड़े हैं, इसलिए पुलिस तत्काल हरकत में आ गई। सभी ने इंस्पेक्टर उत्तम वर्मा से घटना की जानकारी ली, जिसमें उन्होंने अन्य लोगों के साथ मलकीत सिंह गेंदू व राजीव शर्मा का भी जिक्र किया। इसके बाद पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू की और आरोपियों पर ईनाम की घोषणा करने के साथ जिलाबदर, बैंक खाते को सील करने व सम्पत्ति को कुर्क करने जैसे आदेश जारी कर लिए।
इंस्पेक्टर ने दिखाई निष्ठा
जैसा कि पहले ही बताया जा चुका है कि उत्तम वर्मा की गिनती मंत्री कश्यप के करीबी पुलिस अफसरों में की जाती है, इसलिए उन्हें लोहण्डीगुड़ा से हटाकर कमाई से लिहाज से अधिक अच्छा नगरनार थाने का प्रभार दिया गया। अगस्त 15 में जब लोहण्डीगुड़ा में शांति कश्यप के स्थान पर उनकी बहन किरण मौर्या के एमए का इम्तिहान देते हुए पकड़ा गया था तब से ही उत्तम वर्मा मामले की लीपापोती करने में लग गए थे। पं. सुंदरलाल शर्मा (मुक्त) विश्वविद्यालय की जांच में भी यह बात सामने आई कि शांति कश्यप परीक्षा में शामिल नहीं हुईं। विश्वविद्यालय के कुलसचिव ने बकायदा इसकी रिपोर्ट भी लिखाई फिर भी उत्तम वर्मा ने शांति कश्यप के खिलाफ प्रकरण पंजीबध्द नहीं किया और आज भी लोहण्डीगुड़ा पुलिस के रिकॉर्ड में यह मामला जांच में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *