Chhattisgarh Raipur

वन विभाग में खेल, प्रमोशन 18 अगस्त को, 14 की तबादला सूची में है नाम

रायपुर। पीएम नरेंद्र मोदी भले ही भ्रष्टाचार मुक्त भारत का सपना देख रहे हों लेकिन उनकी ही पार्टी की सरकार वाले राज्य छत्तीसगढ़ में भ्रष्टाचार कम होने की बजाय बढ़ता ही जा रहा है। पिछले दिनों चले तबादलों के दौर में छत्तीसगढ़ का शायद ही कोई विभाग बचा हो जहां पैसे का खेल न चला हो। ताजा मामला मंत्री महेश गागड़ा के वन विभाग का है।

दरअसल 27 अगस्त 2017 को वनरक्षक, वनपाल, सहायक ग्रेड3, लेखपाल भृत्य, चौकीदार की स्थानांतरण लिस्ट जारी हुई है। स्थानांनतरण सूची में जारी होने की तारीख 14 अगस्त है। इस लिस्ट को देखने के बाद बड़े-बड़े विभाग के अधिकारियों का भी सर चकरा गया। स्थानांतरण किए गए वनपाल की लिस्ट में ऐसे नाम भी हैं, जिनका प्रमोशन 18 अगस्त को हुआ। अब सवाल यह है कि प्रमोशन से चार दिन पहले बनी 14 अगस्त की सूची में उनके प्रमोशन वाले पद का नाम कैसे आ गया। ध्यान देने लायक बात यह भी है कि जारी सूची में इस स्थानांतरण को प्रशासनिक बताया जा रहा है। 14 अगस्त को जारी सूची के दिन तक वनपाल के कुछ नाम ऐसे हैं जो कि वनरक्षक ही थे। उनका स्थानांतरण वहां से किया गया जहां प्रमोशन के बाद भेजा गया।

अब इसे लापरवाही कहें या जुगाड़ ’मनी’ का खेल, यह साबित जरूर हो गया है कि तबादला सूची तैयार होने में लेनदेन जमकर हुआ है। इस सूची में चौंकाने वाली दूसरी बात यह है कि बिलासपुर वन विभाग उड़नदस्ता के सारे कर्मचारियों का स्थानांनतरण कर दिया गया। डीएफ ओ उड़नदस्ता पूरी तरह से खाली कर दिया। इस तरह सूची मे ऐसी बातों के आधार पर जानकार सूत्रों का कहना है कि तबादलों में जमकर लेन-देन हुआ है और उच्च स्तर तक हुआ है।

इधर वन विभाग के प्रमुख सचिव आरपी मंडल से जब ‘छत्तीसगढ़ डॉट को’ ने बात की तो उन्होंने कहा कि ‘मैं दौरे पर हूँ, पीसीसीएफ को बात करने बोलता हूं। इतनी बड़ी गलती कैसे हुई, यह तो लापरवाही की तरह बात करने से साफ है। इसी तरह वन विभाग के अवर सचिव राजूरकर मानते तो हैं कि यह मेजर फाल्ट है। उनका यह भी कहना है कि यह लिस्ट पीसीसीएफ व एडमिनिस्ट्रेशन पार्ट मतलब प्रमुख सचिव आरपी मण्डल, वन मंत्री के हस्ताक्षर के बाद ही मेरे पास हस्ताक्षर के लिए आई थी। अगर यह हुआ है तो गलत है और तुरंत रिलीव से रोकता हूं। स्क्रुटनी के बाद लिस्ट पर कार्रवाई होगी। वहीं पीसीसीएफ राजीव टम्टा को फोन करने पर उन्होने फोन नहीं उठाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *