★ बी एम ओ ने जारी किया चेतावनी पत्र 
कसडोल ।शासन द्वारा एस्मा लगाए जाने तथा सी एम एच ओ एवं बी एम ओ के द्वारा बार बार आदेश जारी किए जाने के बाद भी स्वेच्छाचारी चिकित्सक बी पी बघेल अपने ड्यूटी पर अनुपस्थित है ।बी एम ओ ने अब उन्हें अनुशासनात्मक कार्यवाही करने की चेतावनी के साथ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कसडोल में ड्यूटी पर उपस्थित होने पत्र जारी किया है ।
                प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बरपाली में पदस्थ चिकित्सा अधिकारी बी पी बघेल सहित विकास खण्ड के सभी चिकित्सा अधिकारियों का सामुदायिक स्वा – स्थ्य केन्द्र कसडोल में संलग्नीकरण करने का आदेश जिला चिकित्सा अधिकारी द्वारा आज से करीब 6 – 7 वर्ष पूर्व किया जा चुका है तथा संबंधित चिकित्सा अधिकारीगण सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में अपनी लगातार सेवाएं दे भी रहे हैं लेकिन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बरपाली में पदस्थ चिकित्सा अधिकारी बी पी बघेल ने शासनादेश एवं जिला चिकित्सा अधिकारी के आदेश निर्देश की अवहेलना करते हुए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कसडोल में अपनी ड्यूटी पर कभी उपस्थित नहीं हुए । वर्तमान में पूरे विश्व में कोरोना वायरस का संकट छाया हुआ है इसलिए छत्तीसगढ़ शासन द्वारा पुलिस ,स्वास्थ्य ,राजस्व सहित विभिन्न विभागों में कार्यरत कर्मचारियों के सारे अवकाश को निरस्त कर राज्य में एस्मा ( अनिवार्य सेवा ) लागू कर दिया गया है । राज्य में एस्मा 13 मार्च से लागू कर दिया गया है और बरपाली में पदस्थ चिकित्सक को पहले से जारी आदेश के अलावा पृथक से अलग आदेश जारी कर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में अपनी सेवाएं देने पत्र जारी किया गया था लेकिन डॉ बघेल आदेश का अवमानना करते हुए ड्यूटी पर उपस्थित नहीं हुए जिससे बी एम ओ ने सी एम एच ओ के पत्र क्र / स्था. /वि ज्ञ / 2020 / 79 बलौदाबाजार दिनाँक 02/04 /20 के द्वारा उन्हें कसडोल अस्पताल में अपनी सेवाएं देने आदेश जारी किया गया था लेकिन फिर भी उपस्थित नहीं हुए और सी एएच ओ द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस का जवाब देने के बजाए स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति का पत्र अपने उच्च अधिका – रियों पर प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए भेज दिया ,अपने इस्तीफा सह स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति पत्र में डॉ बघेल ने स्पष्ट लिखा है कि वे बरपाली के अलावा कही अन्य जगह ड्यूटी करना नहीं चाहते ।उनके स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति पत्र का हवाला देते हुए सी एम एच ओ ने राज्य में लगाए गए एस्मा एवं उसके परिपालन में गृह विभाग द्वारा जारी पत्र क्र / एफ – 4 – 133 / गृह- सी / 2018 नया रायपुर दिनांक 28 / 03/ 2020 का हवाला देते हुए स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति को वर्तमान संकट के समय अस्वीकार्य बताते हुए उन्हें अपने कर्तव्य पालन का आदेश जारी किया गया था लेकिन फिर भी उक्त चिकित्सक दिनाँक 3 अप्रेल को अपनी ज्वाईनिंग देने आए और 7 अप्रेल को कार्यालयीन कार्य के लिए आए लेकिन आम लोगों को चिकित्सा सेवा देने एक भी दिन उपस्थित नहीं हुए , उनके इस स्वेच्छाचारिता को अनुशासनहीनता की श्रेणी में मानते हुए सी एम एच ओ के निर्देश पर बी एम ओ ने उन्हें चेतावनी के साथ अपनी ड्यूटी पर उपस्थित होने 16 अप्रेल को पत्र जारी किया गया था फिर भी उक्त स्वेच्छाचारी चिकित्सक ड्यूटी पर आ ही नहीं रहे हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here