दुर्ग। लॉक डाउन के दौरान जहाँ शासकीय शराब दुकाने बंद है तो इसका फायदा उठाकर कोचिये एक्टिव हो गए है। भिलाई के स्मृति नगर चौकी स्थित पुलिस ने राजा गार्डन तालाब के पास से एक शराब तस्कर को गिरफ्तार किया है। आरोपी विवेक प्रताप सिंह के पास से एक पेटी अंग्रेजी शराब पार्टी स्पेशल ब्रांड जब्त की गई है।

चौकी प्रभारी प्रमोद श्रीवास्तव ने बताया कि मुखबिर से प्राप्त सूचना के आधार पर एसपी अजय यादव के निर्देश में अवैध शराब के लिए टीम लगाई गई थी और सूचना के आधार पर आरोपी विवेक प्रताप सिंह को गिरफ्तार किया गया है जिस पर आबकारी अधिनियम की धारा 34 (2) के तहत कार्यवाही की जा रही है।

पुलिस की माने तो आरोपी के द्वारा उक्त शराब को रायपुर के टाटीबंध के आसपास से लाया जाना बताया जा रहा ,पर शायद पुलिस की ढीली पूछताछ या फिर किसी दबाव वश पुलिस आरोपी से शराब के ठिकाने का पता नही लगा सकी। सूत्रों के अनुसार कोचियों के द्वारा रायपुर से शराब को दुगुने दामों में खरीदी किया जा रहा है। वहीॆ इसे 4 गुने दाम में दुर्ग भिलाई के आसपास क्षेत्रो में कोचियों के माध्यम से बेचा जा रहा है।

चौकी में लगी भीड़


विवेक की गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही पहले तो पुलिस के आला अधिकारियों के मोबाइल फोन घनघनाने लगे। चौकी पर बड़ी-बड़ी गाडिय़ों का रेला लग गया। लेकिन चौकी प्रभारी ने किसी की नहीं सुनी और आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की।

पुलिस की कार्रवाई पर भी सवाल

जब आरोपी द्वारा उक्त शराब को रायपुर से लाया जा रहा है तो कुम्हारी और भिलाई के चौक चौराहे में चेकिंग के बिना शराब से भरी वाहन के जिले में प्रवेश से सवाल तो उठता ही है वही पुलिस की कार्यवाही के दौरान चौकी के आसपास जमे हुए लोग यह बयान कर रहे थे कि आरोपी को राजनैतिक संरक्षण प्राप्त है। उधर सूत्रों के मुताबिक शराब की मात्रा अधिक थी, तकरीबन 17 पेटी शराब थी और आरोपी को शराब की खेप पहुंचाने वाला तस्कर भी मौके पर मौजूद था। जबकि पुलिस का कहना है कि वह ओझल हो गया था।

आरोपी के राजनैतिक संबंध

आरोपी  विधायक का समर्थक भी है फेसबुक कांग्रेस के विधायक के समर्थन में उसके कई पोस्ट है वही विधायक महोदय के साथ भी शराब तस्कर की अनेकों फोटो उनके करीबी होने को बयान करती है। अगर आरोपी को किसी तरह का राजनैतिक संरक्षण प्राप्त है तो निश्चित तौर पर इससे विधायक महोदय व सरकार की छवि पर असर पड़ सकता है।

कई लोग फोटो खिंचवाने आते हैं

वही इस पूरे मामले में विधायक ने पकड़े गए शराब तस्कर से उनका कोई संबंध होने को सिरे से नकार दिया।  उनका कहना था कि जनप्रतिनिधि होने के नाते कई लोग फोटो खिंचवाने आते है पर इसका यह मतलब नही की हर किसी से संबंध हो। अवैध शराब के खिलाफ खुद उन्होंने जिला पुलिस अधीक्षक से कड़ी कार्यवाही करने व रोकथाम के संबंध में बात की थी. पुलिस की कार्यवाही की सराहना करते हुए विधायक ने कहा कि इससे कोचियों के हौसले पस्त होंगे और लॉक डाउन के दौरान अवैध शराब बिकने पर पाबंदी लगेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here