दिल्ली वेब डेस्क / कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र की मोदी सरकार को कोरोना से जंग के मामले में हर मोर्चे पर फेल बताया है | सोनिया गांधी ने कहा कि भारत में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आने से पहले ही देश की अर्थव्यवस्था संकट में थी। नोटबंदी और त्रुटिपूर्ण जीएसटी इसके प्रमुख कारण थे। आर्थिक गिरावट 2017-18 से शुरू हुई। सात तिमाही तक अर्थव्यवस्था का लगातार गिरना सामान्य नहीं था फिर भी सरकार गलत नीतियों के साथ आगे बढ़ती रही।

उन्होंने यह भी कहा कि “जैसा कि हम जानते हैं कि 11 मार्च को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड-19 को वैश्विक महामारी घोषित किया। पूरे विपक्ष ने सरकार को पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया। यहां तक कि जब 24 मार्च को केवल चार घंटे के नोटिस में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया, तब भी हमने इस फैसले का समर्थन किया।”

सोनिया गाँधी ने केंद्र की नीतियों को लेकर सवाल भी खड़े किये | उन्होंने कहा कि “कोरोना से जंग में प्रधानमंत्री का पहला अंदाजा कि 21 दिन में हम लड़ाई जीत लेगें, गलत साबित हुआ। ऐसा लगता है वायरस तब तक रहेगा जब तक इकसी कोई वैक्सीन नहीं विकसित हो जाती है। उन्होंने कहा, सरकार को लॉकडाउन के मानदंडों को लेकर भी निश्चित नहीं थी और न ही सरकार के पास इसे खत्म करने की कोई योजना है। कोरोना जांच और जांच किट के आयात के मोर्चे पर पर भी सरकार फेल रही है।”

कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गाँधी की अगुवाई में शुक्रवार को विपक्षी दलों की वीडियो कॉन्फ्रेंस में ज्यादातर नेताओं ने केंद्र पर हमला किया है | इस बैठक में कोरोना वायरस महामारी के बीच प्रवासी श्रमिकों की स्थिति और मौजूदा संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार की ओर से उठाए गए कदमों और आर्थिक पैकेज पर तमाम दलों ने अपनी बाते रखी | कुछ दलों ने प्रदेशों में श्रम कानूनों में किए गए हालिया बदलावों को लेकर भी चर्चा की।

बैठक की शुरुआत विपक्षी दलों के नेताओं द्वारा बंगाल और ओडिशा में चक्रवात अम्फान से पीड़ित लोगों के प्रति दुख जता कर हुई। इस बैठक में उद्धव ठाकरे समेत लगभग 22 विपक्षी दलों के नेताओं ने हिस्सा लिया | हालाँकि उत्तर प्रदेश की सियासत के दो प्रमुख चेहरों बसपा प्रमुख मायावती और सपा नेता अखिलेश यादव बैठक में शामिल नहीं हुए | यही नहीं दिल्ली की सत्ताधारी पार्टी आम आदमी पार्टी ने भी इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया। माना जा रहा है कि देश में कोरोना वायरस महामारी के चलते प्रवासी मजदूरों के पलायन और गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर केंद्र सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस ने यह बैठक बुलाई है। कोरोना महामारी आने के बाद यह पूरे विपक्ष को साथ करने की सोनिया गाँधी की यह पहली कोशिश है।

उधर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक और ट्वीट में बताया कि बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, राहुल गांधी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, सीताराम येचुरी और द्रमुक नेता एमके स्तालिन, राजद नेता तेजस्वी यादव, नेकां के उमर अब्दुल्ला आदि विपक्षी नेता बैठक में शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here