fansi
Bemetara Chhattisgarh

गिरफ्तार आरोपी ने जेल में किया आत्महत्या

बेमेतरा: बेमेतरा उपजेल के एक बंदी ने बीती रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बंदी के फांसी लगाकर आत्महत्या की खबर से जेल में बंद अन्य बंदी भी सकते में है। बंदी की फांसी की सूचना से जिला एवं जेल प्रशासन में हडकंप की स्थिति है। बंदी के फांसी लगाने की घटना के बाद जेल प्रशासन ने जेल प्रहरी को तत्काल निलंबित कर दिया। इधर प्रशासन ने मामले की जांच शुरू कर दी है। बंदी ने फांसी लगाई है या किसी ने हत्या कर फांसी पर लटका दिया होगा यह रहस्य बरकरार है। फिलहाल मामले की जांच के बाद कारणों का खुलासा होगा।
लोकेश सतनामी 19 वर्ष ग्राम बोड़ साजा तहसील का निवासी
जानकारी के अनुसार जेल के बैरक नंबर तीन में लुंगी का फंदा बनाकर फांसी लगाने वाला लोकेश सतनामी 19 वर्ष ग्राम बोड़ साजा तहसील का निवासी था। उसे नाबालिग से अनाचार के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। आरोपी पर धारा 376, 366, 363 पाक्सो एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया गया। उसे न्यायालय के आदेश पर 14 दिसंबर के उपजेल लाया गया था।
सूचना दुर्ग केंद्रीय जेल अधीक्षक को दी
गुरुवार की शाम बंदियों के नाश्ते के समय बैरक नंबर -तीन के किनारे अपने लुंगी से फांसी लगा ली थी, जिसे बंदियों ने बैरक में वापस लौटते वक्त देखा। बंदी को फांसी पर लटके देख अन्य बंदियों ने इसकी सूचना दुर्ग केंद्रीय जेल अधीक्षक को दी। घटना की जानकारी मिलते ही जेल अधीक्षक दुर्गेश क्षत्री और डॅा. एस. के. शर्मा ने जेल पहुंच कर मौका मुआयना किया और परिस्थितियों का जायजा लिया।
शुक्रवार की सुबह पीएम
जेल प्रशासन की ओर से शुक्रवार की सुबह साढ़े आठ बजे तक एसडीम के पहुंचने का इंतजार किया जा रहा था। एसडीएम के आने के बाद ही अन्य कार्यवाही पूरी कर शव को पीएम के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया। जेल प्रशासन ने बंदी के परिजन को मौत की सूचना दे दी है।
पहले भी हो चुकी है घटनाएं
बेमेतरा उपजेल में आत्महत्या का पहला मामला नहीं है। इसके पूर्व भी इस तरह की घटनाएं हो चुकी है। लगभग दो सला पहले संजय टंडन पिता सोनचंद सतनामी ग्राम जोगीपुर ने फांली लगा ली थी। वह शांति भंग के आरोप में बंद था। मौत के मामले में न्यायिक जांच कमेटी बनाई गई थी। कमेटी ने बंदी को आदतन शराबी बताया था और शराब नहीं मिलने के कारण जेल के भीतर ही सिर पटक-पटक कर जान देने को मौत का कारण बताया था। इसी तरह दो साल पहले भी हत्या के एक आरोपी बंदी ने दूसरे बंदी का कान काट लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *