Bilaspur high court
Bilaspur Chhattisgarh India

हाईकोर्ट के जस्टिस ने कहा- अंबिकापुर कलेक्टर व आयुक्त को गिरफ्तार कर लाओ कोर्ट

बिलासपुर। हाईकोर्ट जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा ने बार बार नोटिस के बावजूद जवाब देने उपस्थित नहीं होने पर अंबिकापुर कलेक्टर किरण कौशल और नगर निगम आयुक्त सूर्यकिरण तिवारी अग्रवाल के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। हाईकोर्ट ने दोनों अधिकारियों को 6 नवंबर को उपस्थित होने का आदेश दिया है।

..तो इस मामले पर हाईकोर्ट ने मांगा था जवाब
अंबिकापुर निवासी बिल्डर केएन सिंह ने अंबिकापुर में कुंडला सिटी कॉलोनी बनाई है। कॉलोनाइजर एक्ट, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के नियमों का पालन किए बिना किसी दूसरे की जमीन पर अवैध निर्माण कर मकान बेचे गए। इसके खिलाफ आलोक दुबे ने न्यायालय में सिविल परिवाद पेश किया।

सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने कॉलोनी के 230 मकान के निर्माण को अवैध पाया। कोर्ट ने कलेक्टर अंबिकापुर व नगर निगम आयुक्त को कॉलोनी के 230 अवैध मकान को तोडऩे का आदेश दिया। इसके खिलाफ बिल्डर ने हाईकोर्ट की डीबी में रिट याचिका दाखिल की।

डीबी ने एकलपीठ के आदेश पर रोक लगाने से इनकार करते हुए बिल्डर को इतनी राहत दी कि प्रशासन बिल्डर का पक्ष सुनने के बाद कार्रवाई करे। हाईकोर्ट के इस आदेश के बावजूद कलेक्टर व नगर निगम आयुक्त ने कोई कार्रवाई नहीं की।

इसके खिलाफ याचिकाकर्ता आलोक दुबे ने अंबिकापुर कलेक्टर किरण कौशल व नगर निगम आयुक्त सूर्यकिरण तिवारी अग्रवाल के खिलाफ अवमानना याचिका क्रमांक 253/2016 पेश किया। हाईकोर्ट ने कलेक्टर व आयुक्त को अवमानना नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। लेकिन लगातार बार नोटिस देने के बाद भी कलेक्टर व आयुक्त उपस्थित नहीं हुए।

मामले को सुनवाई के लिए शुक्रवार को जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा की डीबी में रखा गया। याचिकाकर्ता के अविक्ता ने बारबार नोटिस के बावजूद अधिकारियों के उपस्थित नहीं होने पर आपत्ति की। कोर्ट ने इसे गंभीरता से लेते हुए अंबिकापुर कलेक्टर किरण कौशल व नगर निगम आयुक्त सूर्यकिरण तिवारी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दोनों को 6 नवंबर को उपस्थित होने का आदेश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *