Chhattisgarh India Jagdalpur

जगदलपुर: अब पटरियां टूटी तो होगा घमासान गुरिल्ला युद्ध

जगदलपुर: बस्तर में रेलवे की पटरियों की सुरक्षा हथियार बंद रेलवे पुलिस फोर्स के जवान करेंगे। उन्हें गुरिल्ला युद्ध का भी प्रशिक्षण देकर तैनात किया जाएगा।
रेलवे पुलिस के पुलिस महानिरीक्षक अतुल पाठक बस्तर में लगातार नक्सलियों के कारण रेलवे मार्ग को लागातर नुकसान पहुचाते जा रहे थे। स्थिति को देखने बाद उन्होंने छत्तीसगढ़ अधिकारियों से चर्चा के उपरान्त निर्णय लिया गया कि, रेल लाईन की सुरक्षा की जवाबदारी रेलवे पुलिस की होगी।

अपनी धमक बताने रेल लाइन को पहुंचते हैं नुक्सान :
बस्तर में नक्सली या तो जंगलों में उत्पात मचाते हैं या फिर अपना अस्तित्व बताने के लिए रेल लाइन और हाईवे को निशाना बनाते हैं। वर्तमान में इन स्थानों पर सुरक्षा की जिम्मेदारी छत्तीसगढ़ पुलिस के कंधों पर है, लेकिन अब रेलवे लाइन में नक्सलियों से निपटने के लिए आरपीएफ की तैनाती की जा रही है। इसके लिए उन्हें बाकायदा गुरिल्ला युद्ध का प्रशिक्षण देकर मोर्चे पर तैनात किया जाएगा।
रेलवे पुलिस फोर्स जवान भी अब रेल रुट की सुरक्षा के साथ रेलवे की मूल्यवान संपत्तियों की सुरक्षा करेंगे, वह भी अस्त्र-शस्त्रों के साथ सज्जित होकर साथ ही वे जरूरत पडऩे पर नक्सलियों से गुरिल्ला लड़ाई लड़ कर लौहा लेंगे।
अधिकारिक जानकारी के अनुसार रेलवे पुलिस फोर्स शीघ्र ही अपने जवानों की तैनाती बस्तर में करने वाली है। जवानों के फील्ड में आने से पहले बस्तर पुलिस उन्हें प्रशिक्षित किया जाएगा। यह प्रशिक्षण रेलवे पुलिस फोर्स के जवानों को संभाग के अलग-अलग इलाकों में दिया जाएगा। रेलवे ट्रैक और इसकी संपत्तियों की सुरक्षा के लिए बस्तर में आरपीएफ की 6 कंपनियों को तैनात किया जाएगा। हर कंपनी में 135 के करीब जवान होंगे।
विदित हो कि, बैलाडिला विशाखापटनम रेलवे मार्ग से लौह अयस्क की ढुलाई की जाती है। बैलाडिला से दंतेवाड़ा तक अतिसंवेदनशील मार्ग होने के कारण नक्सली लगातार पटटी उखाड़ कर नुकसान पहंचाते रहें हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *