Chhattisgarh Raipur Tribal

जानिए कौन थे बस्तर के महाराजा, जिन्हें आज भी याद किया जाता है बस्तर दशहरा उत्सव में

1965 तक रथ में आरूढ़ होता रहा राजपरिवार जगदलपुर। बस्तर के ऐतिहासिक दशहरा पर्व को भव्य रूप प्रदान करने में बस्तर के भूतपूर्व महाराजा प्रवीर चंद्र भंजदेव अपने जीवन के अंतिम क्षण तक आदिवासियों के इस परंपरागत पर्व को विधान के अनुसार संपन्न करवाते रहे, उनके जीवन काल में राजमहल के सिंह द्वार हमेशा आदिवासियों […]

Chhattisgarh kawardha Tribal

सफलता – पानी की तलाश में गांव वालों ने पहाड़ का सीना चीर कर बना डाली सड़क

0 झिरिया के लिए रास्ता बनाया श्रमदान से पंडरिया. पानी की तालाश में आदिवासियों को दर दर भटकना पड़ रहा है। पहाड़ी क्षेत्र में बसे वनवासियों के लिए पानी की समस्य इस समय विकराल रूप धारण किए हुए है। लिहाजा आदिवासियों ने पहले सरकार का मुंह ताका इसके बाद जब उन्हें मदद नहीं मिली तो इस […]

Chhattisgarh Tribal

कश्यप बंधुओं के बस्तर में बाप की लाश के लिए सात हजार की रिश्वत!

जगदलपुर। भाजपा सांसद दिनेश कश्यप और राज्य सरकार के मंत्री केदार कश्यप के बस्तर में एक बेटी को अपने बाप की लाश लेने के लिए पुलिस को चंदा करके सात हजार रुपए रिश्वत देनी पड़ी। आदिवासी समाज के एक नेता के विरोध तथा पुलिस के खिलाफ जगदलपुर बंद करने की चेतावनी के बाद बस्तर एसपी […]

Chhattisgarh India Koriya Raipur Tribal

1950 से अब तक नहीं हुआ दर्ज एक भी अपराध, देश के प्रथम राष्ट्रपति ने बसाया था यह गांव

० कोरिया जिले के पंडो नगर में रहने वाले आदिवासियों ने नहीं देखे पुलिस थाने सोमेश कुमार @रायपुर. हमारे गांव के आदिवासियों ने कभी पुलिस थानों की चौखट पर कदम नहीं रखे। पुलिस का काम क्या होता है, ये हम नहीं जानते क्योंकि हमारे गांव में कभी अपराध होते ही नहीं है। अगर कोई यह […]

farmers festival in india
Chhattisgarh Dharm India Raipur Tribal

बैलों के श्रृँगार व गर्भ पूजन का पर्व-पोला, अन्न माता करती हैं गर्भ धारण

रायपुर. किसी भी राज्य की सार्थक पहचान उनकी संस्कृति से होती है। जिसमें छत्तीसगढ़ राज्य भारत देश का एक मात्र ऐसा राज्य है जो पूर्णतः कृषि कार्य प्रधान राज्य है। यहाँ के निवासी पूरे वर्ष भर खेती कार्य मे लगे रहते है।धान की खेती यहाँ की प्रमुख फसल है। यहाँ के निवासियों ने अपनी सांस्कृतिक विरासत […]

Tribal Uncategorized

यहां एक भी तलाकशुदा महिला नहीं है, तालाक का एक भी मामला नहीं पहुंचा न्यायपालिका

श्वेता शुक्ला – ट्रिपल तालाक का मसला इस समय पूरे देश में आग की तरह धधक रहा है। वहीं हमारे देश के कोने में एक ऐसा आदिवासी समुदाय है जिसे तलाक के मायने ही पता नहीं हैं। यह समुदाय परिणय सूत्र में बंधने के बाद अपने जीवन साथी से वैवाहिक बंधन नहीं तोडता, बल्कि पूरी […]

Chhattisgarh India Jagdalpur Raipur Tribal

जन्माष्टमी विशेष- बस्तर में हैं सैकड़ों साल पुरानी बांसुरी, पीढ़ी दर पीढ़ी होता है बांसुरी का हस्तांतरण

रायपुर। बस्तर के आदिवासी आज  भी अपनी परंपराओं और संस्कृति को सहेज कर रखे हुए हैं। आदिवासियों की संस्कृति का एक अमूल्य हिस्सा है उनके पारंपरिक वाद्य यंत्र। इनमें से एक है यहां बहुतायात में बजाई जाने वाली बांसुरी। बस्तर में बांसुरी का अलग ही महत्व है। यहां एक नहीं अनेक प्रकार की बांसुरी बनाई […]

Tribal

अनूठी कृषि पद्धति बेवर.. आदिवासियों की फसलें पहले नहीं रहती थीं मौसम पर निर्भर

श्वेता शुक्ला/ रायपुर.  प्राचीन आदिम जनजाति बैगा की कृषि पद्धति बेवर को अपनाया जाए तो निश्चित ही बंजर जमीन भी सोना उगलेगी। वर्तमान समय में अधिकांशतः खेतों में चुनिंदा फसलें ही बोई जाती हैं। सरकारी प्रलोभन व कोदो कुटकी हटाओ धान गेहूं उपजाओ के कृषि विभाग के नारे व प्रयास ने आदिकाल की इस पारंपरिक […]

Tribal

जानिए…. छत्तीसगढ में कहां खाते हैं चूहे की सब्जी और चीटी की चटनी

रायपुर। सुनकर भले ही आपको आश्चर्य हो मगर यह सत्य है कि छत्तीसगढ और मध्यप्रदेश की कुछ आदिवासी जनजातियां आज भी चूहे की सब्जी और चीटी की चटनी खाती हैं. मांसाहार के रुप में हमेशा मुर्गे, बकरे व अन्य जंगली जानवरों और पक्षियों का उपयोग करते हुए लोगों को देखा होगा। लेकिन चूहे की सब्जी […]