jogi
Chhattisgarh

मुख्यमंत्री पर पूर्व CM ने साधा निशाना, कहा- बोनस जितनी राशि ही छवि चमकाने में लगा रहे हैं रमन

रायपुर: जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के संस्थापक अध्यक्ष अजीत जोगी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि डाॅ. रमन सिंह की सरकार किसानो को धान की बोनस देने की जगह अपने को पुनः पदस्थापित करने का बोनस मांगतेे हुए पूरे प्रदेश में सरकारी खर्च पर स्वयं की छबि चमकाने के प्रयास में घूम रहे है। डाॅ. रमन सिंह किसानो को 2100 करोड़ धान का बोनस बांटने के लिए लगभग उतना ही खर्च अपनी छबि चमकाने के लिये कर रहे है यदि छबि चमकाने के जगह पर उतना पैसा और किसानो के खातों में दे देते तो शायद उनकी बिगड़ी हुई छबि में कुछ सुधार की संभावनाएं होती।

प्रदेश में पार्टी की ‘‘छत्तीसगढ़िया अधिकार यात्रा’ के सिलसिले में पार्टी पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि धान बोनस को तिहार का नाम देकर डाॅ. रमन सिंह उन आत्मदाह करने वाले किसानो का माखौल उड़ा रहे है। किसानो का हमदर्द बनने का ढोंग करने वाले डाॅ. रमन सिंह पूरे प्रदेश में घूम-घूम कर सरकारी मंच व सरकारी खर्च पर अपने पक्ष में बटन दबाने की बात तो करते है किन्तु प्रदेश में आत्मदाह किये 1275 किसानो के प्रति सद्भावना व्यक्त करते हुए एक शब्द भी नहीं कहते शायद डाॅ. रमन सिंह की अंर्तआत्मा प्रदेश में मारे गये 1275 किसानो के आत्मदाह के बाद भी उन्हें नहीं कछौटती। श्री जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़िया अधिकार यात्रा छत्तीसगढ़ वासियों के हक के लिये लड़ी जाने वाले एक बड़ी लड़ाई रहेेगी जिसमें छत्तीसगढ़वासी लड़कर अपना अधिकार लेकर रहेंगे।

इस दौरान विधायक मरवाही अमित जोगी ने कहा कि डाॅ. रमन सिंह के 14 वर्षो के कुशासन के कारण प्रदेश का किसान आत्महत्या कर रहा है युवा अपने रोजगार नहीं मिल पाने के कारण हतोस्ताहित है, प्रदेश की माता और बहने सरकार के शराब बिक्री उद्योग के कारण पारिवारिक जीवन नर्क हो गया है, आदिवासी क्षेत्रो के भाई -बहनो को सरकार अपने पीठ थपथपाने के उददेश्य से फर्जी मुठभेड़ के द्वारा मारे जा रहे है अतः अब जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ चुप नहीं बैठ सकती प्रदेश की आशाओं व अभिलाशाओं के केन्द्र बिन्दु हम है अतः छत्तीसगढ़िया अधिकार यात्रा तब तक अनवरत चलेगा जब तक की हम प्रदेश के समस्त छत्तीसगढियो को उनका अधिकार न दिला दे। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे का प्रदेश कार्यकारणी व जिला व उपाध्यक्षों की बैठक दोपहर 1 बजे से संध्या 7 बजे तक लगभग 6 घण्टे रायपुर स्थित होटल महेन्द्रा में आहूत की गयी ।बैठक में 1 नवम्बर से आरम्भ किये जा रहे ‘‘छत्तीसगढ़िया अधिकार यात्रा’’ के कार्यक्रम की रूप रेखा के संदर्भ में विस्तृत चर्चा व रणनीति बनायी गयी। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रदेश प्रवक्ता सुब्रत डे ने बताया कि छत्तीसगढ़िया अधिकार यात्रा प्रदेश के 90 विधानसभाओं से विशेषकर उन गांव से निकाली जायेगी जहां अपने धान का उचित मूल्य नहीं मिल पाने के कारण किसान ने आत्महत्या की है। यात्रा को ऐसे आत्महत्या किये किसान के परिवारजनों के उपस्थिति में आरम्भ किया जायेगा। यात्रा की समाप्ति ‘‘किसानो को अधिकार दो या जेल दो’’ के रूप में 15 दिसम्बर को होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *