cg police chhote
Chhattisgarh Jagdalpur

दृष्टि विहीन व्यक्ति को पुलिस ने बनाया गवाह

जगदलपुर: बस्तर पुलिस पर माओवादी मोर्चे के दौरान कभी फर्जी एनकाउंटर तो कभी फर्जी समर्पण के आरोप पहले ही लगते रहे हैं। इस बार ऐसा ही एक उदाहरण सामने आया जिसने इस आधार को और भी पुख्ता कर दिया है।
मामला चिंतागुफ थाना का है। यहां पुलिस ने तो ऐसा किया जो सोच से परे है। हत्या के प्रयास और विस्फोटक अधिनियम में एक दृष्टि विहीन व्यक्ति को गवाह बना दिया। इस बात का खुलासा तब हुआ जब वह के समंस के बाद पेशी पर आया। उसे मालूम ही नहीं था कि उसे गवाह बनाया गया। इस दृष्य को देख अभियोजन भी परेशान हुए। पुलिस की किरकिरी न हो इसलिए गवाह को ड्रॉप कर दिया गया। पुलिस गवाही में सूरदास के सामने आने से कोर्ट परिसर में लोग भी भौचक रह गए। मामला आठ जनवरी का है। नेत्रहीन यहां गवाही देने के लिए पहुंचा था। बुरकापाल के रहने वाले माड़वी नंदा (40) को सेशन ट्रायल नंबर 59/17 पर समंस जारी हुआ। यह समंस 30 नवंबर 17 को जारी किया गया। न्यायालय ने कहा कि 8 जनवरी को उपस्थित होना है। मामला गंभीर था। दिव्यांग माड़वी नंदा को आईपीसी की धारा 307 और 3,5 विस्फोटक अधिनियम का पुलिस साक्षी बताया। कोर्ट जब वह अपनी 9 वर्षीया बेटी के साथ पहुंचा तो लोग यह देख कर परेशान हो गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *