India international

रिहा होते ही सईद की भारत को धमकी, जारी रहेगी कश्मीर की आजादी के लिए लड़ाई

लाहौर: मुंबई आतंकवादी हमले का मास्टरमाइंड और आतंकवादी संगठन जमात-उद-दावा (जेयूडी) का सरगना हाफिज सईद ने गुरुवार आधी रात को हिरासत की मियाद खत्म होने के बाद आजाद होते ही कहा कि वह कश्मीर की लड़ाई के लिए पूरे पाकिस्तान से लोगों को इकट्ठा करेगा और कश्मीरियों को आजादी दिलाने में मदद करेगा। आतंकवादी गतिविधियों में भूमिका निभाने को लेकर अमेरिका ने पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जेयूडी के सरगना सईद पर एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है। सईद इस साल जनवरी से ही हिरासत में था लेकिन पाकिस्तान सरकार ने अब किसी दूसरे केस में उसे फिर से हिरासत में नहीं लेने का फैसला किया।

रिहा होने के बाद सईद ने अपने घर के बाहर जुटे समर्थकों से कहा कि मुझे 10 महीने तक नरजबंद रखा गया ताकि मुझे कश्मीर पर बोलने से रोका जा सके। मैं कश्मीरियों के हक की लड़ाई लड़ता हूं। मैं कश्मीर के लिए पूरे देश से लोगों को जुटाऊंगा और हम कश्मीरियों को उनकी आजादी की मंजिल पाने में मदद करेंगे। पंजाब प्रांत के न्यायिक समीक्षा बोर्ड ने सईद की 30 दिन की नजरबंदी पूरी होने पर उसकी रिहाई का आदेश सर्वसम्मति से दिया था। सईद की 30 दिन की नजरबंदी की अवधि गुरुवार आधी रात को पूरी हो गई थी। सईद ने खुद की रिहाई के आदेश को खुद की बेगुनाही का सबूत बताया। सईद ने कहा कि भारत के कहने पर अमेरिका ने पाकिस्तान पर मुझे हिरासत में लेने का दबाव डाला। उसने कहा कि पाकिस्तानी सरकार पर अमेरिका के दबाव के कारण मुझे हिरासत में लिया गया।

अमेरिका ने ऐसा भारत के कहने पर किया। यहां जौहर टाउन स्थित हाफिज के घर के बाहर उसके कई समर्थक जुटे और उसकी रिहाई का जश्न मनाया। उन्होंने हाफिज सईद को कश्मीरियों की उम्मीद करार दिया। जमात-उद-दावा के प्रवक्ता अहमद नदीम ने कहा कि हम अपने लीडर को आजाद देखकर खुश हैं। जमात-उद-दावा को प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का ही प्रमुख संगठन माना जाता है। इसी ने 26 नवंबर 2008 को मुंबई हमले को अंजाम दिया था जिसमें 166 से अधिक लोग मारे गए थे।

उसके बाद हाफिज सईद को नजरबंद कर लिया गया था, लेकिन 2009 में कोर्ट ने उसे रिहा कर दिया। हालांकि भारत पाकिस्तान से मुंबई आतंकी हमले की दोबारा जांच करने और पाकिस्तान सरकार को सौंपे गए सबूतों के आधार पर सईद के साथ-साथ लश्कर के ऑपरेशन कमांडर जकीउर रहमान लखवी पर मुकद्दमा चलाने की मांग करता रहा है। मुंबई हमले में लश्कर के 10 आतंकवादियों में से नौ को पुलिस ने मार गिराया था और अजमल कसाब नाम का आतंकवादी जिंदा पकड़ा गया था। बाद में कोर्ट के आदेश पर कसाब को फांसी दे दी गई थी। अमेरिका के साथ-साथ संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी इस हमले की साजिश रचने के लिए हाफिज सईद को ग्लोबल टेररिस्ट (अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी) घोषित कर रखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *