Chhattisgarh Durg-Bhilai

योगा में नाम रोशन कर रहा मर्रा का धीरेंद्र

गाड़ाडीह: पाटन विकासखंड के ग्राम मर्रा का 18 वर्षीय छात्र योग के क्षेत्र में चमकता हुआ सूरज की तरह है। धीरेंद्र की योग की विभिन्न मुद्राओं को देखकर बड़े बड़े दांतो ठाले उंगली दबा लेते हैं।

मर्रा में रहने वाले भूपेंद्र वर्मा और खुशहाली वर्मा का सबसे छोटा सुपुत्र धीरेंद्र वर्तमान में हाई स्कूल मर्रा में गयरहवी कक्षा में पड़ता है।
धीरेंद्र अब तक ओपन प्रतियोगिता में दो बार कांस्य पदक और तीन बार स्टेट लेबल प्रतियोगिता में रजत पदक प्राप कर चुका है।
धीरेंद्र ने 7 वीं कक्षा से सन 2014 में योगा करने की शुरुवात की और तब से अब तक पीछे मुड़कर नही देखा।इन्होंने स्कूल स्तरीय स्टेट लेवल योग में 2016 में कांकेर में रजत पदक,2017 में तिल्दा में रजत पदक और 2017 में ही ओपन प्रतियोगिता में कोरबा में रजत पदक अपने नाम किया ।सन 2016 में ओपन योगा प्रतियोगिता में इंदौर में कांस्य पदक हासिल किया और सन 2017 में फेडरेशन के ओपन प्रतिउओगीता में नेपाल में कांष्य पदक हासिल कर अपना और क्षेत्र का नाम रोशन किया।

धीरेंद्र वर्मा

गाँव के योगशाला में ही करते है अभ्यास

ग्राम मर्रा लालाराम वर्मा और तुलाराम वर्मा द्वारा छोटे बच्चों के लिए निःशुल्क संचालित बाल योग शाला में धीरेंद्र रोज सुबह शाम 2-2 घंटे अभ्यास कर आज ये मुकाम हासिल किया है। योगशाला के योग गुरु तुलाराम वर्मा और लालाराम वर्मा ने धीरेंद्र को योग और विभिन आसनों की बारीकियां ऐसे सिखाई है कि एक बार देखने मात्र के बाद धीरेंद्र किसी भी योगासन को आसानी से कर लेता है।

बचपन मे तबियत खराब रहने की वजह से भेजा योगा क्लास

धीरेंद्र की माता खुशहाली वर्मा ने बताया कि बचपन मे धीरेंद्र की तबियत अधिकतर खराब ही रहती थी आये दिन अस्पताल के चक्कर काटने पड़ते थे। फिर किसी ने योगा करने की सलाह दी। तब 2014 में धीरेंद्र(सनी)को गाँव मे ही बच्चो के लिए चल रहे योगा क्लास में भेजा । इन चार सालों में धीरेंद्र ने योगा को इस तरह से अपनाया की तबीयत को अब ठीक रहती है और अब योगा में कैरियर बनाने की सोच रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *