Bilaspur

WATCH VIDEO-खरसिया: मामूली विवाद ने लिया स्थानीय बनाम बाहरी का रुप

खरसिया। गणेश विसर्जन के दौरान दो पक्षों के बीच हुए  ने विकराल रूप धारण कर लिया है। हालांकि सब कुछ नियंत्रण में है,  परंतु यह विवाद अब स्थानीय बनाम बाहरी का बनता जा रहा है।

रविवार खरसिया की रात गणेश विसर्जन के दौरान भाजपा मंडल अध्यक्ष राजेश घंसू एवं भाजपा के ही सक्रिय कार्यकर्ता कमलेश नायडू के बीच आवागमन को लेकर कुछ कहासुनी हुई। देखते-ही-देखते वहां उपस्थित कुछ लोगों द्वारा डीजे वाली गाड़ी एवं ढोल-ताशा आदि को क्षति पहुंचा दी गई,  तब मामला गरमा गया। पुलिस की दखलंदाजी से उस समय मामला शांत भी कर दिया गया। लेकिन इसे अहम मानते हुए कुछ लोगों ने फिर तू-तू मैं-मैं शुरु कर दी और बात हाथापाई तक जा पहुंची। इसके बाद दूसरे पक्ष के लोगों द्वारा बस्ती में पहुंचकर जमकर हुड़दंग किया गया।

तो पुलिस क्या कर रही थी

बताया जा रहा है कि कमलेश नायडू की तलाश में जब बाजार से तकरीबन 100 के आसपास लोग पुरानी बस्ती पहुंचे और उसे घर पर ना पाने की स्थिति में जबरन  दरवाजे को क्षतिग्रस्त कर घर घर की तलाशी ली। कहा जा रहा है कि कमलेश की मम्मी ने बार-बार आगाह किया था कि वह घर पर नहीं है। ऐसी स्थिति में इन गुस्साए लोगों ने प्रेम ठाकुर,  पूनम ठाकुर एवं अन्य आस-पास के घरों में जबरिया तोड़फोड़ भी की। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि ऐसी स्थिति में पुलिस सामने होकर कुछ भी कर पाने की स्थिति में नहीं थी। आरोप यह भी है कि यह सब कुछ पुलिस के संरक्षण में हुआ है।

 

नगर में शांति है लेकिन..

बीती रात हुए बलवे की वजह से आज नगर लगभग बंद है और किसी प्रकार की अप्रिय घटनाएं नगर में नहीं हो रही हैं। पुरानी बस्ती के कुछ लोगों ने नगर में रैली निकालकर उपद्रवियों के गिरफ्तारी की मांग कर थाने के सामने जमकर नारेबाजी  जरूर की गई। पुलिस प्रशासन द्वारा घटनाक्रम को गंभीरता से लिया जा रहा है। अभी तक  कोई अप्रिय घटना यहां नहीं हुई। परंतु राजनैतिक एवं प्रशासनिक खेमे में जबरदस्त हलचल पैदा हो गई है। दोनों ही पक्ष न्याय की मांग लिए अड़े हुए हैं। वहीं पुलिस प्रशासन पर राजनैतिक रंग भी देखा जा रहा है। छत्तीसगढ़ियों ने अपनी आन पर आंच न आने देने की ठान ली है तो दूसरी ओर अपने अस्तित्व को सुरक्षित रखने की होड़ है।

इनका कहना है

‘पुलिस कार्रवाई कर रही है. सब कुछ कानून सम्मत होगा’.

@बीएन मीणा, एसपी रायगढ़

 

‘दोनों पक्षों की रिपोर्ट पर अनुसंधान कर पुलिस प्रशासन द्वारा उचित कार्रवाई की जाएगी. नगर में शांति है. घटनाक्रम पर मेरी नजर सतत बनी हुई है’.

@अभिषेक गुप्ता, एसडीएम खरसिया

मीडिया के माध्यम से ही जानकारी मिली है, इसलिए अभी पूरी जानकारी नहीं है। लेकिन यदि इस मामले में छत्त्तीसगढ़ियों पर अत्याचार हुआ है तो सरासर गलत है। संगठन की बैठक में निर्णय लिया जाएगा।

@यशवंत वर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष

छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *