Bilaspur Chhattisgarh India Raipur

WATCH VIDEO- चमत्कार या अंधविश्वास – धान के कटोरे में हो रही धान की बारिश

श्वेता शुक्ला

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश खेतों में उगने वाली चांदी के कारण धान के कटोरे के नाम से जाता है। लेकिन यहां धान की बारिश होने लगे तो सुनकर आपको जरूर आश्यर्च होगा पर यह सत्य है। प्रदेश के एक गांव में पिछले चार पांच दिनों से आसमान से धान की बारिश हो रही है। गांव वाले इसे ईश्वरीय कृपा मान रहे हैं और उनका कहना है कि यह धान नहीं बल्कि भगवान का आर्शीवाद है जो उन्हें सत्कर्मो के कारण मिल रहा है।

 

यह है मामला
बिलासपुर जिले के बिल्हा विकासखंड के ग्राम कोनसरा में पिछले पांच दिनों से लगातार धान की बारिश हो रही है। गांव कें अरूण कुमार सूर्यवंशी का कहना है कि लोगों के घरों की छत, आंगन, सड़कें, खेत खलिहान जहां नजर डालों वहां धान ही धान दिखाई दे रही है। रोज चौबीस घंटे आसमान से बारिश की बूंदों की जगह धान गिरती है जो चारों ओर फैल जाती है। गांव के लोग अपने घरों को साफ करते हैं उसके 20 से 25 मिनट बाद फिर धान ही धान चारों ओर फैल जाती है।


यह सच है काल्पनिक नहीं
गांव के सरपंच सनत कुमार सूर्यवंशी का कहना है कि पहले दिन जब पूरे गांव में धान फैली दिखाई पड़ी तो लगा कि कहीं यह किसी शरारती तत्व की करतूत न हो। पर दिन बीतते गए और धान की बारिश जारी रही। धान की बारिश की बात पर यकीन करना तो मुश्किल है पर जब घर की छत पर धान के टपकने की आवाजें आई तो यह बेहद चौकाने वाला लगा। इस समय पूरे गांव में चारों ओर यह चर्चा का विषय बना हुआ है।
दैविक कृपा मान रहे हैं लोग
गांव के मन्हर लाल और सीताराम का कहना है कि यह धान की बारिश नहीं है बल्कि भगवान का साक्षात आशीर्वाद है। हम लोग विधि विधान से भगवान की आराधना करते हैं ताकि हमारे खेतों में लगी फसलों में किसी तरह का नुकसान न हो। इसलिए भगवान हम गरीब किसानों की व्यथा जानते हैं और वो हमें धन और धान्य का आशीर्वाद दे रहे है।

धान बारिश संभव नहीं है
कहीं भी धान की बारिश होना संभव नहीं है। इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। गांव का कोई शरारती तत्व ऐसा कर रहा होगा जो उन्हें भ्रम में डाल रहा है।
डॉ दिनेश मिश्रा, अध्यक्ष अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति रायपुर

One thought on “WATCH VIDEO- चमत्कार या अंधविश्वास – धान के कटोरे में हो रही धान की बारिश

  1. आस पास कही धान का ढेर होगा जो आंधी या हवा से गांव की छतों पर गिर रहा होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *