India

मोदी सरकार के खिलाफ YSR कांग्रेस लाएगी अविश्वास प्रस्ताव

नई दिल्ली. एक बड़े राजनीतिक घटना क्रम के तहत संसद में कल मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश हो सकता है. YSR कांग्रेस ने अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया है. YSR कांग्रेस के 6 सांसदों ने शुक्रवार के लिए लोकसभा महासचिव को प्रस्ताव का नोटिस दिया है. ये मोदी सरकार के खिलाफ पहला अविश्वास प्रस्ताव होगा. इस सिलसिले में जगन मोहन रेड्डी की अन्य विपक्षी दलों से समर्थन की कवायद में जुटे हैं और पत्र लिखकर अपने इस प्रस्ताव का समर्थन की अपील की है.

आपको बता दें कि सदन में इस प्रस्ताव को पेश करने के लिए कम से कम 50 सांसदों का समर्थन जरूरी होता है.वाईएसआर कांग्रेस के सांसदों ने कांग्रेस पार्टी के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, टीएमसी नेता सौगत राय, बीजेडी नेता भृतहरी महताब, टीडीपी नेता थोटा नरसिम्हा, सीपीएम नेता सीताराम येचुरी, एनसीपी नेता तारिक अनवर, AAP नेता भगवंत मान समेत कई नेताओं से अविश्वास प्रस्ताव को समर्थन देने की अपील की है.

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग कर रहे टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने भी प्रस्ताव को समर्थन करने का एलान किया है. उन्होंने कहा कि अगर जरुरत पड़ी टीडीपी केंद्र सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करेगी. इससे पहले इस मुद्दे पर चर्चा के लिए नायडू की ओर से हैदराबाद में एक बैठक बुलाई गई थी. जगन मोहन रेड्डी ने भी नायडू को पत्र लिखकर समर्थन देने की अपील की है. इसके अलावा टीआरएस भी राज्य के लिए विशेष दर्जे की मांग कर रही है.

नहीं पड़ेगा कोई असर

आंध्र प्रदेश में भी लोकसभा के साथ ही अगले साल चुनाव है. जगनमोहन विशेष राज्य का दर्जा जैसे संवेदनशील मुद्दे के साथ खुद के लिए माहौल बनाना चाहते हैं. नायडू इसमें पीछे छूटना नहीं चाहते हैं. दोनों दलों की राजनीति का केंद्र सरकार पर फिलहाल कोई असर नहीं पड़ेगा. हां, विपक्ष में गठबंधन राजनीति को लेकर शुरू होने वाली कवायद के बीच राजग सहयोगी का जाना जरूर थोड़ी चिंताजनक है. लेकिन, भाजपा यह भी जानती है कि आंध्र में टीडीपी और वाईएसआर एक साथ नहीं हो सकते. वैसे भी चुनाव बाद की स्थिति ही बहुत कुछ तय करेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *