Chhattisgarh Mahasamund

सीएम के सामने गरीबों को दिए सामान को अधिकारियों ने लिया वापस

महासमुंद: सरकार की योजनाओं का झांसा देकर हितग्राहियों के साथ कैसा मजाक किया जाता है इसका नमुना महासमुंद के सरायपाली से सामने आया है. जहां गरीबों को विभिन्न योजनाओं के तहत लाभ दिलाने के लिए पहले अधिकारियों ने सपना दिखाया.

सीएम से सामाग्रियों का वितरण भी करा दिया और जब मुख्यमंत्री चले गये तो गरीबों से सामान वापस लेकर उसे कबाड़ की तरह एक भवन में भर दिये. सरकार गरीब तबके के लोगों को विकास की धारा पहुंचाने और रोजगार देने के लिए प्राय सभी विभागों में अलग-अलग योजना चला रही है.

इस योजना के तहत गरीबों को सामाग्री का भी वितरण किया जा रहा है. महासमुंद जिले के सरायपाली में भी कुछ ऐसा ही हुआ. 10 मार्च को सीएम के प्रवास के दौरान पीएम आवास से बने गांव पाटसेन्दरी का लोकार्पण किया गया. कॉलोनी का नाम पीएम नरेन्द्र मोदी के नाम पर नरेन्द्र नगर रखा गया.

कॉलोनी में कुल 84 परिवारों के लिए मकान बनवाया गया है. इन परिवारों को बसाहट के साथ मुख्यमंत्री कन्यादान योजना और अन्य योजनाओं के तहत सायकल, गैंस सिलेण्डर, सिलाई मशीन, बल्ब सहित सामाग्रीयों का वितरण अधिकारियों ने मुख्यमंत्री के हाथों करवाया था. लेकिन विडंबना देखिये कि सीएम के वापस जाने के बाद हितग्राहियों से सभी सामान वापस ले लिए गये.

हितग्राही विद्याधर, साधनी सहित अन्य का कहना है कि मुख्यमंत्री के आने के पहले उनके घर के सामने सभी समान रखकर उन्हें मुख्यमंत्री के हाथों मिलने की बात कही गई थी और दिया भी गया लेकिन मुख्यमंत्री के जाने के बाद यह कहकर वापस ले लिया गया कि अभी आपलोगों का कागजी कार्रवाई पूरा नहीं हुआ.

गरीब परिवारों के साथ मजाक की बात सामने आने पर अब पक्ष विपक्ष की लड़ाई शुरू हो गई है. मीडिया में बात सामने आने के बाद एक तरफ जहां नींद में सोई हुई विपक्ष सत्ता को घेरते नजर आ रही है तो वहीं स्थानीय भाजपा विधायक खुद को मामले से अनजानि बताते हुए जांच कर दोषी अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करवाने की बात कर रहा है.

हालांकि पूरे मामले में किसी भी विभाग के अधिकारी कुछ भी बोलने से अपने आपको बचा रहे है. लेकिन सवाल यह है कि आखिर जब कोई भी विभाग अपनी कागजी कार्रवाई पूरा नहीं कर पाया था तो सीएम को झांसे में क्यो रखा गया. क्यो आनन फानन में जिला प्रशासन ने मुख्यमंत्री के हाथों हितग्राहियों को सामाग्री का वितरण करा दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *