cg police chhote
Chhattisgarh Mahasamund

महासमुंद: पलायन कर रहे मजदूरों को पुलिस ने रोका

महासमुंद: रोजगार के लिए बस से पलायन कर उत्तरप्रदेश जा रहे करीब 50 मजदूरों को बागबाहरा पुलिस ने रोका है। मामले की जानकारी मिलने के बाद श्रम विभाग की टीम मौके पर पहुंचकर कार्रवाई में जुट गई है।
ग्राम पंचायत नर्रा से लगे बिंद्रावन गांव के करीब 40-50 मजदूरों के साथ ओडिशा के 4 मजदूर गांव से पलायन कर रोजगार के लिए गुरूवार सुबह खनूजा ट्रेवल्स की बस क्रमांक सीजी 06 एच 0324 और मां ट्रेवल्स की बस क्रमांक सीजी 04 ई 1804 में सवार होकर रायपुर जा रहे थे। मुखबिर की सूचना पर पेट्रोलिंग कर रही बागबाहरा पुलिस ने इन दोनों बसों को झलप चौक पर रोका, जिसमें बड़ी संख्या में मजदूर सवार थे। श्रम अधिकारी को जानकारी मिलने के बाद विभाग ने कार्रवाई के लिए बागबाहरा के श्रम निरीक्षक बीएल ठाकुर को मौके पर भेजा है।

मजदूर नहीं बता पा रहे दलाल का नाम :
ठाकुर ने कहा कि पकड़े गए सभी मजदूरों से पूछताछ करने के साथ ही उनका बयान लिया जा रहा है। मजदूरों ने अभी तक मजदूर दलाल का नाम नहीं बताया है। हालांकि वे किसी भूखन साहू नामक मेट का नाम बता रहे हैं। मामले की पूरी जानकारी ली जा रही है जिसके बाद ही कार्रवाई की जाएगी। पकड़े गए मजदूर दलालों में ओडिशा के चार और कोमाखान क्षेत्र के नर्रा से लगे बिंद्रावन के मजदूर शामिल हैं जो स्वेच्छा से रोजगार के लिए उत्तरप्रदेश जाने की बात कह रहे हैं। ठाकुर ने कहा कि, मामले की जानकारी लेने के बाद मजदूर दलाल या जिस व्यक्ति का नाम सामने आ रहा है उसके खिलाफ अंतर्राज्यीय प्रवासी अधिनियम के तहत कार्रवाई करने के लिए नोटिस जारी किया जाएगा।

पलायन का दौर जारी, श्रम विभाग उदासीन! 
जिले में दीपावली के बाद से रोजगार की तलाश में लगातार ग्रामीण क्षेत्रों से लोग बड़ी संख्या में उत्तरप्रदेश के ईंट भट्ठों में पलायन कर रहे हैं जिसमें से कुछ मामलों की जानकारी पुलिस की सक्रियता से मिल रही है। मजदूरों के पलायन को रोकने श्रम विभाग का रवैया उदासीन दिखाई दे रहा है जिससे प्रतिवर्ष जिले से हजारों मजदूर पलायन कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में मजदूरों को पलायन के लिए एडवांस राशि देने वाले दलालों के खिलाफ कोई कड़ी कार्रवाई नहीं होने से यह सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *