press parisad
Chhattisgarh Raipur

प्रेस परिषद ने छत्तीसगढ़ सहित राज्य सरकारों को किया सतर्क

रायपुर: भारतीय प्रेस परिषद ने अपनी संस्था के नाम दुरूपयोग करने के दो प्रकरणों को अत्यंत गंभीरता से लिया है। परिषद ने छत्तीसगढ़ सरकार के मुख्य सचिव सहित सभी राज्य सरकारों को पत्र लिखकर इन प्रकरणों की जानकारी दी है और सतर्क रहने को कहा है। परिषद के पत्र में कोंकण गृह निर्माण व क्षेत्र विकास मंडल ‘म्हाडा’ मुम्बई से प्राप्त एक शिकायत का उल्लेख करते हुए बताया गया है कि श्री रावसो बलवंत डोंगरे और श्रीमती स्नेहा आतिश वर्तक नामक किन्हीं भी कथित पत्रकारों को भारतीय प्रेस परिषद द्वारा अपने लेटर हैड्स पर अपने सदस्य होने जैसा कोई प्रमाण पत्र जारी नहीं किया गया है। कोंकड़ गृह निर्माण व क्षेत्र विकास मंडल ने भारतीय प्रेस परिषद को इन दोनों प्रमाण पत्रों की फोटोकॉपी भेजकर इनके सत्यापन का आग्रह किया गया था।

परिषद के अनुसार दोनों व्यक्तियों द्वारा भारतीय प्रेस परिषद के लेटर हैड पर जो प्रमाण पत्र कोंकण गृह निर्माण व क्षेत्र विकास मंडल को दिए गए थे, वे दोनों प्रमाण पत्र फर्जी हैं और इस मामले में भारतीय प्रतीक चिन्ह तथा नाम (अनुचित प्रयोग निवारण) अधिनियम 1950 का स्पष्ट उल्लंघन किया गया है। उल्लेखनीय है कि इन दो व्यक्तियों द्वारा कोंकण आवास व क्षेत्र विकास बोर्ड (म्हाडा यूनिट) को भारतीय प्रेस परिषद के लेटर हैड पर दो पत्र प्रस्तुत किए थे, जिनमें कथित रूप से भारतीय प्रेस परिषद की सचिव विभा भार्गव के फर्जी हस्ताक्षर हैं और दोनों प्रमाण पत्रों में कथित रूप से यह प्रमाणित किया गया है कि श्री रावसो बलवंत डोंगरे पिछले पांच साल से और श्रीमती स्नेहा आतिशवर्तक पिछले नौ साल से भारतीय प्रेस परिषद (प्रेस कौंसिल ऑफ इंडिया) के सदस्य हैं और पांच वर्ष से पत्रकार पद पे काम कर रहे हैं। दोनों कथित प्रमाण पत्रों में इन व्यक्तियों को मेहनती और ईमानदार बताते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की गई है। दोनों प्रमाण पत्र रावसो बलवंत डोंगरे को 15 सितम्बर 2015 और स्नेहा आतिशवर्तक को 04 जुलाई 2015 को जारी किए जाने का उल्लेख है। ये तारीखें उनके प्रमाण पत्रों में लिखी हुई है और पत्र क्रमांक भी डाला गया है।
भारतीय प्रेस परिषद ने राज्य सरकारों को लिखा है कि परिषद एक वैधानिक और अर्द्धन्यायिक प्राधिकरण है, जिसकी स्थापना प्रेस की स्वतंत्रता के संरक्षण और समाचार पत्रों तथा समाचार एजेंसियों के मानकों को बनाए रखने के उद्देश्य से भारतीय संसद द्वारा एक अधिनियम के द्वारा की गई है। प्रेस की स्वतंत्रता को बाधित करने वाले प्रवृत्तियों को रोकना भी अधिनियम के तहत परिषद का दायित्व है। सूचना भवन, सी.जी.ओ. कॉम्प्लेक्स, लोधी रोड नई दिल्ली 110003 भारतीय प्रेस परिषद मुख्यालय का पता है। परिषद की सचिव विभा भार्गव ने राज्य सरकारों को लिखा है कि परिषद की कोई शाखा अथवा राज्य यूनिट नही है और उस नाम से या उससे मिलते-जुलते नाम की कोई भी संस्था कानूनी रूप से गठित नहीं की गई है और भारतीय प्रेस परिषद की ओर से इस प्रकार की कोई निकाय अधिकृत नहीं की गई है। परिषद ने राज्य सरकारों से आग्रह किया गया है कि भारतीय प्रेस परिषद के नाम का दुरूपयोग रोकने के लिए परामर्श जारी करें और परिषद के नाम का दुरूपयोग करने वाले फर्जी संगठनों और फर्जी व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए परिषद को सूचित किया जाए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *