Chhattisgarh Raipur

राजधानी बस सेवा का संचालन शीघ्र; 19 मार्गों के लिए तैयारियां युद्ध-स्तर पर

रायपुर: परिवहन मंत्री श्री राजेश मूणत ने आज शाम राजधानी के सिविल लाईन स्थित नवीन विश्राम भवन में प्रदेश में राजधानी बस सेवा के संचालन के संबंध में बस वाहन मालिकों की बैठक ली।

वर्तमान में प्रदेश में राजधानी बस सेवा के संचालन के लिए 19 विभिन्न मार्गों को चिन्हित किया गया है। इनमें राजधानी बस सेवा प्रारंभ करने के लिए प्राथमिकता के आधार पर पांच मार्गो हेतु बस वाहन मालिकों से 48 आवेदन प्राप्त हुए हैं। श्री मूणत ने प्रदेश में राजधानी बस सेवा के शीघ्र संचालन के लिए आवश्यक निर्देश दिए। इसके लिए उन्होंने विभागीय अधिकारियों को सभी आवश्यक तैयारियां युद्ध-स्तर पर करने के लिए भी निर्देशित किया।

परिवहन मंत्री श्री मूणत ने बताया कि राज्य में आम यात्रियों को परिवहन की आराम दायक, सुविधाजनक तथा द्रुतगामी सेवाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से यात्री बस सेवा का संचालन किया जाएगा। वर्तमान में प्रदेश में सड़कों का नेटवर्क बहुत विकसित हो गया है और सड़कों की गुणवत्ता भी अपेक्षाकृत बेहत्तर है।

ऐसी स्थिति में प्रदेश के विकास के लिए नॉन स्टॉप अथवा दु्रतगामी मंजिली गाड़ी यात्री वाहन का संचालन सुनिश्चित किया गया है। इसमें आम यात्रियों को परिवहन की सर्वसुविधायुक्त साधन उपलब्ध होंगे, वहीं यात्रियों के अमूल्य समय की बचत भी होगी। इसमें वाहन ए.सी. अर्थात वातानुकुलित होगी। उन्होंने वाहन मालिकों को बस सेवा के संचालन में समयचक्र का विशेष रूप से ध्यान रखने के लिए आगाह किया।

बैठक में बस सेवा में प्रदान की जाने वाली सेवाओं व सुविधाओं, दोनों तरफ से एक-एक घंटे के नियमित अंतराल में बस वाहन का संचालन और बस को जी.पी.एस. आधारित डिवाइस की मदद से सतत मॉनिटरिंग आदि के संबंध में भी विस्तार से चर्चा हुई। श्री मूणत ने यह भी निर्देशित किया कि राजधानी बस सेवा संचालन के लिए निर्धारित एक मार्ग में एक ही बस वाहन मालिक को जिम्मेदारी दी जाएगी। इसमें यात्री बस का रंग सफेद होगा और इसके दोनों तरफ नीले रंग की नौ इंच की पट्टी पर राजधानी बस सेवा नॉन स्टॉप लिखा जाएगा।

बैठक में बताया गया कि राजधानी बस सेवा प्रारंभ करने के लिए प्राथमिकता के आधार पर वर्तमान में पांच मार्गों के लिए आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए हैं। इसके तहत परिवहन विभाग को कुल 48 आवेदन पत्र प्राप्त हुए हैं।

इन मार्गों में रायपुर से राजनांदगांव, रायपुर से सरायपाली, रायपुर से बिलासपुर, रायपुर से कबीरधाम (कवर्धा) और रायपुर से कांकेर शामिल है।

इसके अलावा अन्य मार्गों में रायपुर से महासमुंद, रायपुर से धमतरी, रायपुर से बलौदाबाजार और रायपुर से मुंगेली को राजधानी बस सेवा के लिए चिन्हांकित किया गया है। इसी तरह रायपुर से राजनांदगांव-डोंगरगढ़, रायपुर-राजनांदगांव-मानपुर, रायपुर-सरायपाली-सारंगढ़-रायगढ़, बिलासपुर-मुंगेली-कवर्धा और बिलासपुर से जांजगीर-रायगढ़, मार्ग को भी चिन्हांकित किया गया है।

इसके अलावा बिलासपुर से कोरबा, अम्बिकापुर-सूरजपुर-बैकुण्ठपुर-मनेन्द्रगढ़, अम्बिकापुर से बगीचा-जशपुर तथा दुर्ग से डोंगरगढ़ मार्ग को भी शामिल किया गया है। इसी तरह राजनांदगांव-खैरागढ़-कवर्धा, बिलासपुर से अम्बिकापुर और दुर्ग-बालोद-दल्लीराजहरा मार्ग को राजधानी बस सेवा के संचालन के लिए चिन्हित किया गया है।

परिवहन मंत्री श्री मूणत ने बैठक में आगामी माह अपै्रल से प्रदेश में संभागवार वाहनों के लंबित मामलों तथा देनदारियों के निपटारे के लिए परिवहन विभाग द्वारा विशेष शिविर का आयोजन के लिए आवश्यक निर्देश दिए। इस अवसर पर अतिरिक्त परिवहन आयुक्त श्री ओ.पी. पाल तथा उप परिवहन आयुक्त श्रीमती श्वेता श्रीवास्तव सिन्हा और बस वाहन मालिक बड़ी संख्या में उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *