Chhattisgarh Jagdalpur Politics

जवानों और आदिवासियों का हत्यारा है रमन सिंह : सोनी सोरी

जगदलपुर: सुकमा में नक्सली हमले के खिलाफ आम आदमी पार्टी की आदिवासी संगठन की प्रदेश अध्यक्षा एवं प्रदेश प्रवक्ता सोनी सोरी ने विज्ञप्ति जारी कर कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने कहा कि बस्तर में हो रहा खूनी संघर्ष निश्चित तौर पर निंदनीय व कायराना करतूत है। श्रीमती सोरी ने आगे कहा कि बस्तर में निर्दोष आदिवासी और जवान रमन सरकार की गलत नीतियों के भेंट चढ़ रहे है, कई बार घायल जवान स्वयं इस बात को मुखर हो कर कह चुके है। यह महज इत्तेफाक नही हो सकता कि रमन सिंह के प्रवास के तुरंत बाद माओवादियों द्वारा आई ई डी ब्लास्ट जैसी घटना हो। एक सोची समझी साजिश व पूर्वनिर्धारित योजना के तहत घटना को अंजाम दिया गया है, जिससे छत्तीसगढ़ की राजनीति में रमन सरकार के गिरते ग्राफ को बढ़ाया जा सके। इस घटना से जाहिर होता है कि रमन सिंह आदिवासियों और जवानों की हत्यारा है।

ज्ञात हो कि माओवादियों द्वारा सुकमा के किस्टारम में विस्फोट किया गया था जिसमें नौ जवानों के शहीद होने और कई अन्य जवानों के घायल होने की खबर है।

सुकमा स्थित किस्टारम एरिया में मंगलवार को माओवादियों ने आई ई डी विस्फोट की घटना को अंजाम दिया। इस विस्फोट में सीआरपीएफ के 212 बटालियन के नौ जवान शहीद हो गए। इसके अलावा सीआरपीएफ के 6 जवान घायल हैं जिसमें से चार की हालत गंभीर बतायी जा रही है। घायल जवानों को हेलीकॉप्टर के जरिए रायपुर उपचार के लिए भेजने की जानकारी मिली थी।

आप नेत्री सोनी सोरी ने आगे कहा कि कल वे अपने सहयोगियों के साथ घटना स्थल जा कर स्थिति का जायजा लेंगी और शहीद हुए जवानों से व घायल जवानों की परिजनों से मिलकर अपनी संवेदनाएं व्यक्त करेंगी।

इधर बस्तर लोकसभा अध्यक्ष रोहित सिंह आर्य ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि 14 वर्षों से छत्तीसगढ़ में काबिज रमन सरकार माओवाद के मामले में अपनी स्थिति स्पष्ट करें। रमन सरकार और माओवादियों के बीच खेली जा रही आंखमिचौली के चलते अब तक बस्तर में हजारों निर्दोष आदिवासी और देश के वीर जवानों को बेवजह अपने प्राणों को निछावर करना पड़ा है। रमन सरकार माओवाद के खिलाफ अपनी रणनीति का खुलासा करें वरना आसन्न चुनाव में बस्तर की जनता स्वयं इसका जवाब देगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *