dulha
Baloda Bazar Chhattisgarh

शिक्षाकर्मियों पर कार्रवाई शुरू, बालोद के साढ़े 6 सौ को बर्खास्तगी की नोटिस

बालोद । हड़ताली शिक्षाकर्मियों पर राज्य सरकार ने शिकंजा कसना शुरु कर दिया है। लगातार 4 दिनों के हड़ताल के बाद स्कूलों में वापस नहीं आने पर बालोद जिला पंचायत सीईओ ने बर्खास्त करने की कार्रवाई गुरुवार से शुरु कर दी है। पंचायत व ग्रामीण विकास विभाग के एसीएस एमके राऊत ने हड़ताली शिक्षाकर्मियों को तीन दिन के भीतर शाला वापसी नहीं होने पर कार्रवाई के निर्देश बुधवार को जारी किए थे। इसके बाद 24 घंटे में पहली कार्रवाई बालोद जिले से शुरु हो गई है। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राजेन्द्र कुमार कटारा ने बताया कि जिले में कार्यरत व्याख्याता पंचायत, शिक्षक पंचायत, सहायक शिक्षक पंचायत संवर्ग के कर्मचारी अनाधिकृत रूप से 20 नवम्बर से आंदोलनरत हैं। इन शिक्षाकर्मियों को अपनी संबंधित शालाओं में उपस्थित होने 21 नवम्बर को नोटिस जारी कर उपस्थित होने निर्देशित किया गया था, किन्तु वे उपस्थित नहीं हुए। उन्होंने बताया कि इन शिक्षाकर्मियों के विरूद्ध छत्तीसगढ़पंचायत (अनुशासन तथा अपील) नियम 1999 के तहत अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए जिले के 657 शिक्षाकर्मियों को सेवा से पृथक करने की कार्यवाही की जा रही हैं। जिसमें बालोद विकासखण्ड के 121 शिक्षाकर्मी, गुण्डरदेही विकासखण्ड के 149 शिक्षाकर्मी, गुरूर विकाखण्ड के 128 शिक्षाकर्मी, डौण्डी विकासखण्ड के 98 शिक्षाकर्मी और डौण्डीलोहारा विकासखण्ड के 161 शिक्षाकर्मी शामिल हैं। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने बताया कि सभी संबंधित शिक्षाकर्मियों को तत्काल अपने कार्य पर उपस्थित होने सूचित किया गया है, 24 नवम्बर 2017 तक शेष शिक्षाकर्मी अपने शाला में उपस्थित नहीं होते हैं तो उन्हें भी सेवा से पृथक करने की कार्यवाही की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *