adhar
Chhattisgarh Jagdalpur

किराएदारों का आधार कार्ड पुलिस को देना हुआ जरूरी

जगदलपुर: शहर तथा ग्रामीण क्षेत्रों में किराए के मकान में रहने वाले बाहरी लोगों के आधार क्रमांक समेत अन्य जानकारी मकान स्वामी को पुलिस को मुहैया करानी होगी। थानों के बीट प्रभारियों को किराएदारों का रिकार्ड नियमित रूप से मेटेंन करने कहा गया है। इसके लिए निर्धारित बिंदुओं पर थानों को फार्मेट भी भेजे गए हैं।

शहरी थाना क्षेत्रों समेत जिले के अन्य जनपदों में भी किराएदारों की पूरी जानकारी थानों में अपडेट होगी। ज्ञात हो कि शहर के प्रमुख मोहल्लों समेत ग्रामीण क्षेत्र कालीपुर, अघनपुर, नेगीगुड़ा, नगरनार, आड़ावाल आदि में बड़ी संख्या में बाहरी प्रांतों से आए श्रमिक, पेुरीवाले तथा कर्मचारी व व्यवसायी लोगों के मकानो में किराए से रह रहे हैं।

मकान मालिक द्वारा किराएदारों की जानकारी पुलिस को मुहैया नहीं कराई जा रही है। वहीं शहर में कामर्शियल लाभ के प्रयोजन से लोग बड़े पैमाने पर किराए में देने के लिए मकान बना रहे हैं।

नगरनार स्थित निर्माणाधीन एनएमडीसी प्लांट में कई पेटी कंपनियां काम कर रही हैं। इनसे जुड़े अधिकारी-कर्मचारी समेत उत्तरप्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल, ओडिसा तथा अन्य दीगर प्रांतो से बड़ी संख्या में आए श्रमिक भी वहां रह रहे हैं। इनके पुलिस वेरीफाई नहीं होने के चलते कानून व्यवस्था के लिहाज से आगामी दिनों में मुश्किल खड़ी हो सकती है। चूंकि इलाका नक्सल प्रभावित क्षेत्र हैं।

एसपी बस्तर ने सभी मकान मालिकों से किराएदारों की पूरी जानकारी लिए जाने के निर्देश दिए हैं। जानकारी नहीं देने तथा किराएदार द्वारा अपराध कारित किए जाने की स्थिति में मकान मालिक के विरूद्ध दंडात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

अब तक का रिकार्ड अपडेट नहीं

चार साल पहले भी बाहरी लोगों की जानकारी तलब करने के मकसद से पुलिस ने कुछ बिंदुओं में निर्धारित फार्मेट में मकान मालिक से जानकारी इकठ्ठा की थी। सर्वे के लिए वार्ड पार्षदों की मदद भी ली गई थी।

फार्मेट में मकान मालिक तथा किराएदार का आधार कार्ड नम्बर, नाम, मूल पता,फोटो, मोबाइल नम्बर, मूल निवास स्थल में किसी संभ्रात नागरिक का पता, परिवार के अन्य सदस्यों की जानकारी शामिल है। थानों में रिकार्ड रखना शुरू तो किया गया था पर इसे नियमित रूप से अपडेट नहीं किया जा सका। फलस्वरूप किराएदारों की संख्या समय के साथ बढ़ती गई है।

– बाहरी लोगों एवं किराएदारों की पूरी जानकारी तलब करने के निर्देश दिए गए हैं। यदि मकान मालिक के द्वारा किराएदार का ब्यौरा पुलिस को नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में भविष्य में किराएदार किसी अपराध में संलिप्त पाया गया तो उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। पुरानी सूची को अपडेट कराया जा रहा है। – आरिफ एच शेख, एसपी बस्तर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *