Chhattisgarh India Raipur

गांव वालों ने कहा – 30 से 40 नक्सली आए थे एक निहत्थे को मारने

दंतेवाड़ा/ नकुलनार. भांसी पुलिस भले ही मोलसनार सरपंच पति मदन भास्कर की हत्या को आपसी रंजिश के दृष्टिकोण से देख रही हो लेकिन परिस्थतियां माओवादी वारदात की ओर इशारा कर रही है। मंगलवार को दिन दहाड़े हुई हत्या रंजिशन मानने को गांव के लोग तैयार नहीं हैं। गांव वालों का कहना है कि करीब 30 से 40 की संख्या में माओवादी ग्रामीण वेश-भूषा में आए थे। इनमें अधा दर्जन के पास हथियार थे, बांकी टंगिया, बंडा और चाकू से लैस थे।

इस्पेक्टर रैंक के ट्रेकर डॉग मिन्नी को भी नहीं मिला क्लू
पुलिस मामले की पड़ताल में कोई कसर नही छोड़ रही है। इंस्पेक्टर रैंक के टे्रकर डॉग मिन्नी को बुधवार घटना स्थल ले जया गया। मिन्नी भी 500 मीटर के दायरे में सिमट कर रह गया। गांव वालों का कहना है कि इस वारदता को अंजाम देने बाद लोग कुरचेला की ओर भागे थे। फिलहाल पुलिस ट्रेकर डॉग वाली कोशिश भी नाकाम ही रही।

पुलिस को थी इस बात की भनक
गांव से जुड़े सूत्रों का कहना है कि करीब 10 दिन पहले मोलसनार के आश्रित गांव उदेला में माओवादियों की मीटिंग हुई थी। इस मीटिंग में मदन भास्कर की माओवादी नेताओं से शिकायत की गई। मीटिंग की खबर पुलिस को भी मिली। मीटिंग में कौन-कौन नेता मौजूद था और मोलसनार के आश्रित गांव कुरचेला और उदेला से कितने ग्रामीण शामिल हुए थे, पुलिस ने इस पर काम भी किया। पुलिस को इस बात की भनक थी कि माओवादी सरपंच पति मदन भास्कर को टारगेट कर सकते हैं। इस बात को भांसी पुलिस स्वीकार भी कर रही है।

पुलिस का कहना है कि मृतक को हिदायत भी दी थी
हालांकि मृतक मओवादी रडॉर पर पहले से भी बताया जा रहा है। अहम बात यह भी है कि भांसी पुलिस ने तीन दिन पहले इस गांव के जनमीलीशिया सदस्य पोदिया को गिरफ्तार किया। फिलहल पोदिया जेल में है। गिरफ्तारी के दो दिन बाद ही मोलसनार के सरपंच पति की हत्या हो जाती है। 24 घंटे से अधिक समय वारदात को हो चुके हैं। पुलिस के हाथ कोई सुराग नही लगा है।

पुलिस पंडुम में शमिल सभी ग्रामीणों से पूछताछ करेगी
इसके बाद ही कुछ कहने की बात कह रही है। पुलिस का कहना है कि माओवादी और रंजिश दोनों पहलुओं पर पड़ताल की जा रही है। गांव से जुड़ी तमाम कहानी माओवादी वारदात पर टिकती है फिर भी पुलिस आपीसी रंजिश का राग अलाप रही है।

सरपंच पंचायत भवन में थी, पुलिस करेगी बयान दर्ज
पुलिस ने अभी पत्नी लक्ष्मी भास्कर का बयान नहीं लिया है। घटना के दौरान पलिस को उसने बहुत कुछ बताया। उसने कहा गांव के लोगों को सब कुछ पता है। उसके पति के साथ पहले क्या-क्या हुआ वह सब कुछ बताएगी। अब उसके जीवन में कुछ नही बचा है। ये दर्द उसी मंगलवार को पुलिस के सामने बताया। लक्ष्मी भास्कर उदेला गांव की ही रहने वाली है। जिस दिन यह वारदात हुई वह पंचायत भवन में ग्रामीणों के साथ थी। हलांकि पुलिस भी महिला सरंपच के बयान को महत्वपूर्ण मान कर चल रही है। बुधवार को मदन भास्कर का पोस्टमार्टम हुआ। इसके बाद परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। परिजनों और ग्रामीणो ने मदन का अंतिम संस्कार कर दिया है। पुलिस अब गांव के लोगों से पूछताछ का सिलसिला शुरू करेगी।

मॉडल ग्राम मसेनार के राजू की तरह आदर्श ग्राम के मदन की हत्या भी पहेली न बन जाए !
मोलसनार से महज पांच किलोमीटर दूर स्थित है मसेनार पंचायत। इस पंचायत के सरपंच का भी गला रेत कर हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद भैरमगढ एरिया कमेटी ने पर्चे छोड़े। पुलिस ने इन सभी तथ्यों को दरकिनार किया और पुलिस अधिकारियों ने कहा ये माओवादी वारदत नहीं है। मॉडल ग्राम के सरपंच की हत्या को करीब एक साल होने को है। यह हत्या लोगों के लिए पहेली बन चुकी है। अब आदर्श ग्राम के सरपंच पति को भी गला रेत कर मार दिया गया। लोगों का कहना है कि कहीं राजू की तरह मदन भी पहेली न बन जाए। राजू की हत्या से पुलिस पर्दा नहीं उठा सकी।

अभी तक नहीं मिला है कोई सुराग
भांसी थाना प्रभारी केके वर्मा ने बताया कि उदेला और कुरचेला दोनों गांव के लोगों से पूछताछ की जाएगी। पंडूम में जितने ग्रामीण मौजूद थे पुलिस उनसे भी बात कर रही है। मृतक की पत्नी से अभी बयान नहीं लिया है। पुलिस ने मृतक को सतर्क रहने की हिदायत दी थी। अभी तक कोई सुराग नहीं लगा है। गहराई से जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *