Chhattisgarh Raipur

शिक्षाकर्मियों का ये दांव सरकार पर पड़ सकता है भारी, 90 लाख मतदाताओं को करेंगे जागरूक

रायपुर: लंबे समय से अपनी मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे शिक्षाकर्मी एक बार फिर आंदोलन की तैयारी कर रहे हैं। शिक्षाकर्मी संघ ने 26 मई से संविलियन संकल्प सभा का ऐलान किया है। ​​शिक्षाकर्मी प्रदेश के 90 विधानसभा क्षेत्रों में संविलियन संकल्प सभा का आयोजन कर मतदाताओं को जागरूक करेंगे। हर शिक्षकर्मी 50 मतदाताओं को जगरूक करने का बीड़ा उठाएगा। संघ ने प्रदेशभर के शिक्षा​कर्मियों के आंकड़े 1,80,000×50=90,00,000 जारी करते हुए बताया कि 90 लाख मतदाताओं को जागरूक किया जाएगा।

संविलियन संकल्प सभा में शिक्षकर्मियों के मित्र, रिश्तेदार, सिविल सोसायटी, शाला प्रबंध समिति, समाजसेवी, शिक्षाविद, विद्यार्थी और उनके पालक, कर्मचारी संगठन और वकील भी शामिल होंगे। इस दौरान अनुकम्पा नियुक्ति, क्रमोन्नति, गम्भीर बीमारी, तीन सन्तान, पदोन्नति, वेतन विसंगति, स्थानांतरण, प्रशिक्षण, सेवा गणना आदि से पीड़ित परिवार की भी विशेष उपस्थिति होगी।

प्रांतीय संचालक वीरेंद्र दुबे ने इस कार्यक्रम के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए बताया कि 26 मई को होने वाले संविलियन संकल्प सभा की तैयारी जोर-शोर से चल रही है। प्रदेश का प्रत्येक शिक्षाकर्मी इस दिन संकल्पित होगा और संविलियन मिशन मोड में कार्य करेगा। संविलियनगड़ी के रूप में हम सेल्फी विद कम्युनिटी, सेल्फी विद फैमिली, वीडियो बनाओ- दुखड़ा सुनाओ, दीवार लेखन, चाय पर चर्चा आदि विभिन्न मुहिम के जरिए संविलियन हेतु अपनी प्रतिबद्धता दिखा चुके हैं कि अब संविलियन में देरी करना कतई उचित नहीं है।

यादवेन्द्र दुबे ने कहा  कि प्रत्येक शिक्षाकर्मी अब तक संविलियन नहीं होने से आक्रोशित है और उनके भीतर अब संविलियन प्राप्ति का जुनून है। हर शिक्षाकर्मी अपने स्तर पर भरसक प्रयास कर रहा है। 26 मई को 180000 शिक्षाकर्मी अपने संविलियन प्राप्ति हेतु संकल्पित होगा और मतदाता जागरण के अहम मुहिम में अपना 100% देते हुए प्रत्येक शिक्षाकर्मी 50 मतदाता को मतदान हेतु प्रेरित करेगा। इस कार्यक्रम में समाज के समस्त सुधि और विद्वजन को आमंत्रण दिया जाएगा। हम इस कार्यक्रम से राजनीतिक दलों को दूर रखेंगे ताकि इसका कोई राजनीतिकरण ना हो। माननीय मुख्यमंत्री रमन सिंह से निवेदन है कि प्रदेश की वर्तमान और भावी पीढ़ी के उज्ज्वल भविष्य को तराशने वाले शिक्षाकर्मियों को अविलम्ब संविलियन प्रदान के गुरु की गरिमा और राष्ट्र की शान का सम्मान करें।

गौरतलब है कि 11 मई को शिक्षाकर्मियों ने महापंचायत का ऐलान किया था जिसमें प्रदेशभर के शिक्षाकर्मी रायपुर के बढ़ा तालाब स्थित धरना स्थल पर जमा हुए थे, महापंचायत में शिक्षाकर्मियों ने अपने आंदोलन को नया नाम दिया है। उन्होंने आंदोलन को पत्थलगड़ी के तर्ज पर संविलियनगड़ी का नाम दिया है। उन्होंने बताया प्रदेश भर के शिक्षाकर्मी अब हर ब्लाक, हर पंचायत में संविलियनगड़ी आंदोलन करेंगे।

इससे पहले शिक्षाकर्मियों के महांपचायत की शुरुआत शुक्रवार सुबह हुई। इस आंदोलन में प्रदेशभर के लगभग 30 हजार से ज्यादा शिक्षाकर्मी शामिल हुए। बताया जा रहा है कि इस महापंचायत में सरकार के खिलाफ आंदोलन की विस्तृत रूपरेखा तय की जाएगी। मोर्चा से जुड़े पांच शिक्षाकर्मी संघों का दावा है कि इस महापंचायत में 1 लाख से अधिक शिक्षाकर्मी जुटेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *