chatting
Entertainment

छूट जाएगी चैटिंग की लत बस करें ये काम

आजकल के मॉडर्न जमाने में टेक्नोलॉजी लोगों पर अपना अच्छा खासा असर दिखा रही है. हर कोई चाहता है कि उसके पास बढ़िया मोबाइल, लैपटॉप,कंप्यूटर,ई डायरी के अलावा लेटेस्ट टेक्नोलॉजी हो. भले ही आजकल लोगों के पास समय की कमी है, परिवार या दोस्तों से मिलने या फिर बात करने का समय नहीं है लेकिन मोबाइल पर चैटिंग करने में कुछ लोग दिन में 15-16 घंटे तो बिता ही लेते हैं. जिसका असर उनकी सेहत पर भी पड़ रहा है. जैसे मानसिक रूप से थकान,डिप्रैशन, सर्वाइकल,डिप्रैशन के अलावा और भी बहुत से रोग देखने को मिल रहे हैं. आप भी अपनी इस लत से परेशान हैं तो कुछ टिप्स अपना कर इससे छुटकारा पा सकते हैं. आइए जानें किस तरह से निकले आनलाइन चैटिंग एडिक्शन से बाहर.

चैटिंग नहीं मिलें फेस टू फेस

चैटिंग का मतलब है कि आप अपने दूर के दोस्तों के साथ भी जुड़े हुए हैं लेकिन लोग तो अपने पास बैठे लोगों से भी जब चैटिंग के जरिए बात करनी शुरू कर देते हैं तो यह परेशानी की बात है. कोशिश करें कि कभी-कभार फेस टू फेस भी दूसरों के बातचीत करें. आप इससे आसानी से दूसरों को अपने मन की बात बता सकेंगे. धीरे-धीरे चैटिंग की लत भी छूट जाएगी.

नियम से आफलाइन रहें

अपनी लाइफ में यह नियम बनाएं कि दिन में कम से कम 2 घंटे तक अपनी मोबाइल ऑफ रखें. ऐसा बैटरी खत्म होने पर नहीं बल्कि आदत बना कर ही स्विच ऑफ करें. धीरे-धीरे समय को बढ़ाते जाएं.

शारीरिक दिक्कतें होना

मोबाइल या इंटरनेट का ज्यादा इस्तेमाल करने वाली महिलाएं जो चैटिंग की लत का शिकार हैं वह सेहत से जुड़ी परेशानियों से गुजर रही हैं. जैसे हड्डियों और जोड़ों में दर्द, आंखों की परेशानियां,थकावट आदि. इसका कारण है घंटों एक ही पॉजीशन में बैठे रहना. एक्सरसाइज न करना इससे धीरे-धीरे हड्डियां कमजोर होनी शुरू हो जाती हैं. शारीरिक फिटनेस के लिए घर से बाहर सैर करने जाएं कोशिश करें कि मोबाइल घर पर ही छोड़ दें. परिवार को दें पूरी समय मोबाइल से कुछ देर दूरी बना कर परिवार के साथ समय बिताएं. उनके साथ बाहर घूमने जाएं, शॉपिंग करें, अपनी परेशानियां, दिक्कतें और छोटी-छोटी खुशियां चैटिंग नहीं बल्कि पारिवारिक सदस्यों के साथ बांटें.</>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *