CHHATTISGARH.CO DATE 21-01-2021;- बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय से बदसुलूकी करने की सजा छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने तैय्यब हुसैन को ब्लाक अध्यक्ष के पद से हटाकर दिया है। हालांकि उन्हीं के करीबी शहर युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष जावेद मेनन को कार्यवाहक अध्यक्ष बनाया गया है। 4 जनवरी को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मौजूदगी में न्यू सर्किट हाउस में बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय और ब्लाक अध्यक्ष तैय्यब हुसैन के बीच जोरदार बहस हुई। तैय्यब हुसैन ने शहर विधायक शैलेष पांडेय से बदसुलूकी की। घटना की चर्चा कुछ इस कदर गरमाई कि विधायक की काॅलर पकड़ने तक की बात कही गई। विधायक ने मामले की शिकायत मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम के साथ ही प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया से की। मरकाम ने जांच टीम बिठाई। प्रदेश उपाध्यक्ष व बिलासपुर जिला प्रभारी चुन्नीलाल साहू, प्रदेश महामंत्री कन्हैया अग्रवाल और पीयूष कोसरे को जांच की जिम्मेदारी दी गई है। तैय्यब ने कांग्रेस पार्षदों व अन्य पदाधिकारियों के साथ रायपुर जाकर पिछले दिनों छत्तीसगढ़ भवन में जांच कमेटी के सदस्यों ने प्रभारी महामंत्री चंद्रशेखर शुक्ला और गिरीश देवांगन से मुलाकात कर उनके सामने अपना पक्ष रखा। इधर पिछले दिनों जांच कमेटी ने छत्तीसगढ़ भवन में बंद कमरे में एक-एक कर 40 लोगों से बात की। सर्किट हाउस में घटना के दौरान मौजूद लोगों के साथ ही उन लोगों का बयान भी लिया गया जो वहां पर मौजूद नहीं थे। ज्यादातर ने विधायक से बदसुलूकी की बात स्वीकार की। जांच कमेटी ने रिपोर्ट पीसीसी को सौंपी और बुधवार को प्रभारी महामंत्री चंद्रशेखर शुक्ला ने तैय्यब हुसैन को ब्लाक अध्यक्ष 1 के पद से मुक्त करने का आदेश दिया वहीं उनके स्थान पर जावेद मेनन को कार्यवाहक अध्यक्ष बनाया गया।

तैय्यब ने कहा- झूठे आरोप में हटाया, दिल्ली जाऊंगा
तैय्यब हुसैन ने दिल्ली जाकर कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मिलकर न्याय की मांग करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि संगठन का निर्णय सर्वमान्य है लेकिन झूठे आरेाप में पद मुक्त करने से आहत हूं। 20 साल तक कांग्रेस को मैंने अपनी सेवाएं दी है। इस तरह हटाना अच्छा नहीं है। मुझे न्याय की पूरी उम्मीद है। सच्चाई सामने आएगी। विधायक के पास वीडियो और फोटो हो तो उपलब्ध कराएं।

नौ घटनाएं जो बताती हैं कि बिलासपुर कांग्रेस में गुटबाजी किस तरह चल रही…
1. 1 नवंबर 2018 को शैलेश पांडेय को बिलासपुर सीट से लड़ाने की घोषणा के साथ ही कांग्रेस भवन में तोड़-फोड़, धरना और अनशन हुआ। प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल के फोन आने पर आंदोलन खत्म किया गया।

2. 4 नवंबर 2018 को शैलेश पांडेय को जिताने के लिए रणनीति बनाने हो रही बैठक में कांग्रेस नेता अशोक अग्रवाल ने पांडेय को अपशब्द कहे। धमकी दी थी कि वे उन्हें इस चुनाव में जीतने नहीं देंगे।

3. 31 दिसंबर 2018 को सीएम बनने के बाद बिलासपुर आए भूपेश बघेल को मंच पर अटल श्रीवास्तव गुलदस्ता दे रहे थे। शैलेश के हाथ बंधे थे। नरेंद्र बोलर ने पकड़े थे। लोगों ने अपने हिसाब से अर्थ निकाल लिया।

4. पुलिस ग्राउंड में 26 जनवरी 2019 को बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय ध्वजारोहण नहीं कर पाए। तखतपुर की विधायक रश्मि सिंह से ध्वजारोहण करवाया गया। इससे बिलासपुर के लोग नाराज हुए।

5. 19 अक्टूबर को सीएमडी कॉलेज के आजाद पैनल के आकाश यादव ने फ्रेशर पार्टी में शैलेश को मुख्य अतिथि बनाया। कार्यक्रम के पहले जान से मारने की धमकी देने के एक पुराने मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया।

6. 14 सितंबर 2019 को अटल बिहारी बाजपेयी यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में विधायक शैलेश पाण्डेय को नहीं बुलाया गया। विधायक नहीं गए। यूनिवर्सिटी में छात्रों ने खूब प्रदर्शन किया।

7. 9 दिसंबर 2019 को निगम चुनाव में नाम वापसी के दौरान विधायक समर्थित 5 प्रत्याशियों की टिकट काटते हुए उनकी जगह दूसरे को प्रत्याशी बनाकर बी फॉर्म जारी कर दिया गया।

8. लॉकडाउन के दौरान 30 मार्च 2020 को भीड़ लगाकर राशन बांट रहे बिलासपुर विधायक के खिलाफ पुलिस ने जुर्म दर्ज किया। शैलेश ने कहा कि वे भीड़ हटा रहे थे।

9. विधायक 11 में से 6 एल्डरमैन अपने समर्थकों को बनाने सफल रहे। इसकी शिकायत सीएम से हुई पर सूची नहीं बदली तो शपथ ग्रहण समारोह में दूसरा गुट नजर नहीं गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here