CHHATTISGARH.CO DATE 24/09/2020;- कोरोना वायरस की चपेट में आए अधिकतर लोगों में इसके लक्षण दिखाई दिये हैं। महामारी पर किये गए अध्ययन में यह बात सामने आई है। वहीं, दूसरी और इस बीमारी का शिकार हुए कुछ लोगों में इसके लक्षण दिखाई नहीं दिये। हालांकि इस बात को लेकर असमंजस रहा है कि संक्रमण के कुल मामलों में ऐसे मामलों की संख्या कितनी रही है।     

‘पीएलओएस मेडिसिन’ पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए ऐसे लोगों की संख्या बहुत कम है, जिनमें इसके लक्षण नही दिखाई दिये हैं।     

स्विजरलैंड के बर्न विश्वविद्यालय के नेतृत्व में किये गए इस अध्ययन के अनुसार कोविड-19 लक्षणों की गंभीरता का आकलन कर पाना बहुत मुश्किल है। अध्ययन के अनुसार कुछ लोग गंभीर लक्षणों के कारण वायरल निमोनिया, सांस लेने में तकलीफ और मौत का शिकार हुए जबकि अन्य लोगों में कोई या तो लक्षण ही नहीं दिखे या फिर बेहद मामूली लक्षण दिखाई दिये।     

यह अध्ययन मार्च से जून 2020 के दौरान सार्स-कोव-2 के आंकड़ों का इस्तेमाल कर किया गया है। अध्ययन के अनुसार सार्स-कोव-2 की चपेट में आए लोगों में शुरूआत में कोई लक्षण दिखाई नहीं दिये, लेकिन बाद में जिन लोगों में लक्षण दिखाई दिये, उनका अनुपात लगभग 80 प्रतिशत था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here