दीपक साहू 17 अक्टूबर chhattisgah.co| धमतरी जिले के मगरलोड क्षेत्र में इन दिनों अवैध रेत उत्खनन के क्षेत्र में सबसे आगे निकल चुका है..वही इस क्षेत्र में इस मामले को लेकर काफी गहमा गहमी रहता है…मगरलोड क्षेत्र में वर्तमान में सबसे नामी अवैध खदान परेवाडीह,दमकाडीह है…जिसकी शिकायत ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से की थी.बावजूद इसके प्रशासन के आंख,कान बन्द और मुह और हाथ खुला हुआ है…जिसके चलते ग्रामीणों का कहना है कि इसमें सफेदपोश नेताओं,अधिकारियों का संरक्षण के चलते यह खदान चल रहा है.

सूत्रों की माने तो यह खदान सत्ता सरकार के कार्यकर्ताओं और विपक्ष के कार्यकर्ताओं द्वारा संचालित किया जा रहा है…जिसमें जिले के प्रभारी मंत्री और वर्तमान कुरुद विधायक दोनो के करीबी कार्यकर्ताओं द्वारा धड़ल्ले से संचालित हो रहा….वही शनिवार दोपहर को खनिज विभाग की टीम मगरलोड दौरे पर था.जिससे अवैध रेत से जुड़े लोगों में उथल पुथल मची हुई.

जिसमें जानकारी के अनुसार विभाग द्वारा कपालफोडी,ठेकला में चैन माउंटेन जब्ती व हाइवा जब्ती की कार्यवाही की गई है…वही सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार शाम होते होते एक अवैध रेत खदान में जब्ती किए गए चैन माउंटेन को अधिकारी द्वारा छोड़ दिया गया जो साफ साफ उस खनिज विभाग से आए अधिकारी की सांठगांठ की ओर इशारा कर रहा है…वही सवाल तो खनिज विभाग से आये अधिकारी की कार्यवाही पर भी उठ रही है.

जो कि कपालफोडी,ठेकला से कुछ दूरी पर परेवाडीह,दमकाडीह रेत खदान लगा हुआ है…आखिरकार वहाँ पर विभाग की टीम क्यों नही पहुँची या फिर जाना ही नही चाहते थे..जिससे साफ पता चलता है कि विभाग की यह टीम अवैध रेत माफियाओं को संरक्षण दे रहे है…जो चढ़ावा लेकर आंख,कान,बन्द कर दफ्तरों बैठकर कुर्सीयो की शोभा बढ़ा रहे है….वही इस मामले को लेकर हमने खनिज अधिकारी व दौरे पर रहे विभागीय टीम को संपर्क किया लेकिन उनसे संपर्क नही हो पाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here