5 दिसम्बर chhattisgarh.co भारतीय क्रिकेट के पूर्व खिलाड़ी मोहम्मद कैफ का मानना है कि ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि रविन्द्र जडेजा पिछले 11 साल से टीम इंडिया के लिए खेलते आ रहे हैं। इसके बावजूद उन्हें कमतर आंका जाता है। कैफ का ये बयान तब आया है जबा जडेजा ने पहले टी20 मैच में 92 रन पर 5 विकेट गिर जाने के बाद ना सिर्फ टीम इंडिया को संभाला बल्कि एक चुनौतीपूर्ण स्कोर 161 तक भी पहुँचाया। जिससे टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी20 मैच में जीत हासिल हुई।

इस तरह गेंदबाजी के लिए जाने वाले जडेजा ने अपने बल्लेबाजी कौशल में लगातार दूसरी बार टीम इंडिया को जीत की दहलीज तक पहुँचाया है। इससे पहले भी जडेजा ने हाल ही में खेले गये ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे मैच में हार्दिक पांड्या के साथ नाबाद 66 रनों की पारी खेली थी। जिससे इन दोनों के बीच 6वें विकेट के लिए रिकॉर्ड 150 रनों की नाबाद साझेदारी हुई थी। इस तरह टीम इंडिया का स्कोर 152 रन पर 5 विकेट के बाद 300 के पार जा पहुंचा था और उसे जीत हासिल हुई थी। इतना ही नहीं जडेजा ने एक विकेट भी लिया था।

ऐसे में जडेजा की तारीफ करते हुए मोहम्मद कैफ ने ट्वीटर पर लिखा, “लगातार दो मैचों में उन्होंने भारत को व्हाइट-बॉल क्रिकेट में इतनी अहमियत दी है कि वह बहुत जरूरी संतुलन प्रदान करते हैं।” कैफ ने आगे ट्वीटर पर लिखा, “11 सालों से टीम इंडिया में खेलने के बावजूद उन्हे उस तरह का सम्मान टीम में नहीं मिलता। जिसके वो हकदार हैं।मुझे ऐसा लगता है की भारत उन्हें आगे काफी मिस करेगा। बता दें कि तीन वनडे मैचों की सीरीज के पहले टी20 मैच में पारी के अंतिम ओवर में रविंद्र जडेजा के सिर पर मिशेल स्टार्क की गेंद लग गई। जिससे चोटिल जडेजा की कनकशन विकल्प के तौर पर युजवेंद्र चहल को उतारा गया जिन्होंने 25 रन देकर तीन विकेट चटकाये और भारत की आस्ट्रेलिया के खिलाफ शुक्रवार को कैनबरा में पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में 11 रन की जीत में अहम भूमिका अदा की। इस तरह जडेजा अब चोटिल होने के बाद आगामी दो टी20 मैचों से बाहर हो गये हैं और उनकी जगह शार्दुल ठाकर को टीम में शामिल किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here