• अंचल के नेताओं,जनप्रतिनिधियों के सांठगांठ होने से पुलिस के हाथ बंधे हुए हैं,पुलिस छापे में करीब डेढ़ करोड़ का जुआ पकड़ाया लेकिन खाईवालों कि पहुंच के कारण आरोपियों को छोड़ा।।
    5 दिसम्बर chhattisgarh.co गिधौरी बिलाईगढ़ ब्लॉक के सरसीवा अंचल के कई गांवों में इस समय जुआ बेखौफ़ जोरो पर चल रहा है। जुआ के संबंध में कुछ ने नाम न छापने की शर्त पर विस्तार से बताया कि इस खेल को खेलने हर 4 से 6 दिन में जगह बदल दी जा रही है।बकायदा ऐसे जगहों पर डेढ़ सौ से दो सौ कि संख्या के खिलाड़ियों का मजमा लगा रहता है। यहां प्रवेश करने 500 रू कि एंट्री भी ली जाती है जहां शराब, बियर,चखना,गुटखा जैसी सभी व्यवस्थाएं उपलब्ध रहती है।

आपको बतला दें कि अंचल में पिछले कई माह से जुआ का खेल अमलिडिह, तौलीडिह, बलौदी, कोदवा गावों में बड़े खाईवाल और राजनीतिक पहुंच वालों के संरक्षण में खेला जा रहा है जहां करोड़ों रुपए का दांव लगाया जाता है। एक दो बड़ा खाईवाल स्थानीय है कई बड़े खाईवाल बाहर से 2- ढाई सौ किलोमीटर दूर से आकर जुआ का कारोबार कराया जा रहा है।इस खेल में हज़ारों गरीब और बेरोजगार युवा वर्ग अपनी सारी पूंजी लगाकर तबाह और बर्बाद हो रहे हैं। नाम न छापने कि शर्त पर इन्होंने आगे बताया कि विगत 2 दिसंबर 2020 बुधवार को तो सरसीवा थाना से महज 2 किलोमीटर कि दुरी पर स्थित कोदवा गांव में जुआ का बड़ा कारोबार पुलिस के नाक के नीचे धड़ल्ले से चल रहा था और 3 दिसंबर को भी संचालित रहा जिसकी शिकायत मिलने पर सरसीवा पुलिस ने छापेमारी भी कि जहां करीब डेढ़ करोड़ रुपए का जुआ पकड़ाया था लेकिन ऊंची पहुंच के कारण बड़े खाईवालों को पुलिस ने छोड़ दिया एवं खाना पूर्ति करने के लिए महज 2 हज़ार रुपए का मामला बना दिय गया।

इन खाईवालों कि पहुंच कांग्रेस के नेताओं और जनप्रतिनिधियों तक है जो ऐसे कृत्य को अंजाम देते हैं।जुआ के खाईवालों कि पहुंच और सांठगांठ सत्ता पक्ष के नेताओं तथा जनप्रतिनिधियों के साथ होने के कारण पुलिस के हाथ बंधे हुए हैं।इस संबंध में सरसीवा थाना प्रभारी जितेंद्र कोशले पत्रकारों के सवालों के जवाब और वर्सन देने कतराते दिखे वे पिछले दो दिनों से पत्रकारों से बात करने सामने नहीं आ रहे हैं उनसे जब भी इस संबंध में बात कि जाती है तो वे गोल मोल जवाब देते हैं।वहीं बलौदाबाजार पुलिस अधीक्षक आई के एलेसेला ने अनभिज्ञता जाहिर करते हुए पता करता हूं कहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here